Suji ke Fayde: टाइप-2 डायबिटीज के साथ-साथ खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी है सूजी का सेवन, जानिए इसके अन्य फायदे

16_09_2022-16_09_2022-rava_benefits_f_23073835_9135106

 सूजी या रवा नाश्ते से लेकर मिठाइयों तक हर चीज में इस्तेमाल किया जाने वाला एक आवश्यक घटक है, जो न केवल पकवान के स्वाद और बनावट को बढ़ाता है बल्कि कई स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करता है। तिल में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर के साथ-साथ कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक, सोडियम जैसे मिनरल जैसे पोषक तत्व होते हैं। सूजी मूल रूप से गेहूं की भूसी को पीसकर तैयार की जाती है। तो इसमें मौजूद मिनरल्स और विटामिन हमारे शरीर को कैसे फायदा पहुंचाते हैं, जानिए इसके बारे में…

1. कोलेस्ट्रॉल कम करने में मददगार

तिल के बीज विटामिन बी3 से भी भरपूर होते हैं, जिन्हें नियासिन भी कहा जाता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार पर्याप्त मात्रा में नियासिन से खराब कोलेस्ट्रॉल को आसानी से कम किया जा सकता है।

2. वजन घटाने में फायदेमंद

फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ वजन घटाने में बहुत अहम भूमिका निभाते हैं, इनके सेवन से पेट लंबे समय तक भरा रहता है, जिससे ज्यादा खाने से बचा जा सकता है। इसलिए सूजी में फाइबर की मात्रा होती है, इसलिए आपको नाश्ते में उपमा, आपी, चीला जैसे विकल्पों को शामिल करना चाहिए। इससे स्वस्थ रहने के साथ-साथ वजन भी कंट्रोल में रहेगा।

3. आयरन की कमी को दूर करने के लिए

सूजी में आयरन भी मौजूद होता है। आयरन की कमी से एनीमिया (खून की कमी) हो सकती है, जिससे कई तरह की शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं। इससे बचने के लिए सूजी को अपनी डाइट का हिस्सा बनाएं।

4. टाइप 2 मधुमेह का कम जोखिम

एक प्रकार का अनाज में आहार फाइबर होता है जो ग्लाइसेमिक नियंत्रण के रूप में कार्य कर सकता है, जो टाइप 2 मधुमेह के खतरे को काफी कम करता है।

5. प्रतिरक्षा को मजबूत करता है

जैसा कि हमने आपको बताया सूजी में जिंक, मैग्नीशियम, विटामिन बी6 जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो सूक्ष्म पोषक तत्वों के रूप में कार्य करते हैं और प्रतिरक्षा प्रणाली को फिट रखने में मदद करते हैं।

6. सूजी के अधिक सेवन से होने वाले नुकसान

चूंकि सूजी फाइबर से भरपूर होती है, इसलिए इसके अधिक सेवन से पेट फूलना और पेट में ऐंठन हो सकती है।

चूंकि इसमें फॉस्फोरस भी होता है, इसलिए इसके अधिक सेवन से शरीर में फास्फोरस की मात्रा बढ़ सकती है, जो किडनी की बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए बहुत हानिकारक हो सकता है।

चूंकि सूजी में फोलेट भी अच्छी मात्रा में होता है, इसलिए इसे अधिक मात्रा में खाने से पेट में दर्द, अनिद्रा और दस्त जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

Check Also

children_0

स्वास्थ्य / अपने बच्चों की खाने की आदतों में सुधार करें

एक समय के बाद माता-पिता बच्चों की इस आदत को ठीक नहीं कर पाते हैं। यही …