रात को खाना खाने के बाद इस छोटी सी गलती से बढ़ जाता है वजन, जानिए कुछ नियम

जब वजन कम करने की बात आती है, तो सबसे पहले हर कोई अपनी डाइट में बदलाव करता है। फैट कम करने के लिए सबसे पहले कैलोरी वाले फूड्स को खत्म करना है। कुछ बहुत व्यायाम भी करते हैं। भागदौड़ भरी जिंदगी में स्वस्थ रहना किसी काम से कम नहीं है। अच्छी जीवनशैली और अच्छी डाइट रूटीन के साथ-साथ कई बातों का ध्यान रखने की जरूरत होती है। मालूम हो कि अच्छी डाइट लेने और एक्टिव रहने के बावजूद हम बीमारियों के शिकार हो जाते हैं।

यह सीजन रेस्टोरेंट से लेकर घर में खाना बनाने तक हर चीज के साथ एक्सपेरिमेंट कर रहा है। इन चंद दिनों की पूजा करते-करते कितने किलो बढ़ गए हैं। अब उस अतिरिक्त चर्बी को कम करने का समय आ गया है। अतिरिक्त वसा केवल भद्दा नहीं है। यह कई बीमारियों का कारण भी है।

आज हम जिस वातावरण में रह रहे हैं, उसमें स्वास्थ्य का अतिरिक्त ध्यान रखना अनिवार्य हो गया है। यहां हम इस रिपोर्ट में रात के खाने के बाद की जाने वाली एक गलती का जिक्र करने जा रहे हैं। यह गलती रात का खाना खत्म करने के बाद अतिरिक्त वजन का एक बड़ा कारण हो सकती है।

दरअसल, बहुत कम लोग जानते हैं कि रात के खाने के बाद सोने की कौन सी पोजीशन सही होती है। जानिए रात को खाना खाने के बाद आपको किस पोजीशन में सोना चाहिए और इसके क्या फायदे हैं।

रात के खाने के बाद इस स्थिति में सोएं

हालांकि, रात में खाना खाने के तुरंत बाद बैठना या लेटना नहीं चाहिए। इस गलती से खाया गया खाना फायदे की जगह नुकसान पहुंचाता है। लंच या डिनर के बाद थोड़ी देर टहलें और करीब 2 घंटे बाद सो जाएं। खाना खाने के बाद हमेशा बाईं करवट ही सोएं। साथ ही पेट भरकर सोना भी फायदेमंद होता है।

बायीं करवट सोने के फायदे

डॉक्टरों का कहना है कि अगर हम बायीं करवट सोते हैं तो इससे हमारे पाचन पर कोई असर नहीं पड़ता है। साथ ही खाना ठीक से पचता है। यदि आप रात के खाने के बाद सही स्थिति में नहीं सोते हैं, तो इससे एसिडिटी या सीने में जलन हो सकती है। कोशिश करें कि हमेशा बायीं करवट या पेट के बल सोएं।

यह इन रोगियों के लिए भी फायदेमंद है

बायीं करवट सोना कई तरह से फायदेमंद होता है। जानकारों के मुताबिक दिल के मरीज अगर बाईं करवट करके सोएं तो यह उनके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। इस अवस्था में सोने में कोई दिक्कत नहीं होती है। प्रत्येक व्यक्ति को भोजन करने के बाद दो घंटे तक सक्रिय रहना चाहिए, जिससे पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है।

Check Also

Herbs Garden: घर में बनाएं हर्ब गार्डन, ऐसे उगाएं गमले में जड़ी-बूटी

बीमारियों की बढ़ती संख्या के बीच लोग आजकल घर में ही हर्बल गार्डन बनाने लगे हैं। तुलसी, गिलोय, …