इंडोनेशिया में आखिर क्या हुआ कि एक महिला पर 100, तो पुरुष पर बरसाए गए 15 कोड़े? जानें क्या है पूरा मामला

इंडोनेशिया (Indonesia) में एक शादीशुदा महिला को अवैध यौन संबंध रखने की बात कबूल करने पर 100 बार कोड़े (Woman Flogged in Indonesia) मारे गए. वहीं, जिस व्यक्ति के साथ उसके अवैध रिश्ते थे, उसे महज सिर्फ 15 कोड़े खाने की सजा दी गई. ये व्यक्ति भी शादीशुदा था. ये घटना गुरुवार को इंडोनेशिया के रुढ़िवादी आचे प्रांत में सामने आई. समचारा एजेंसी एएफपी के रिपोर्टर के मुताबिक, महिला को कोड़े मारने का काम कुछ वक्त तक रोकना पड़ा, क्योंकि इतनी मार की वजह से वह दर्द बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी. आचे प्रांत इंडोनेशिया की एकमात्र ऐसी जगह है, जहां पर शरिया कानून (Sharia Law) लागू है.

पूर्वी आचे अभियोजक कार्यालय में सामान्य जांच प्रभाग के प्रमुख इवान नज्जर अलावी ने कहा कि महिला ने जांचकर्ताओं के आगे कबूल किया कि उसने अपनी पति से इतर किसी दूसरे व्यक्ति के साथ यौन संबंध बनाए थे. इसके बाद अदालत ने शादीशुदा महिला को कठोर सजा सुनाई और उसे कोड़े मारने का आदेश दिया गया. अलवी ने कहा कि जजों को आरोपी व्यक्ति को दोषी ठहराने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा, क्योंकि उसने इस अपराध में शामिल होने से इनकार कर दिया. ये व्यक्ति पूर्वी आचे मत्स्य एजेंसी का प्रमुख था और महिला की तरह खुद भी शादीशुदा था.

एक अन्य व्यक्ति को भी मारे गए 100 कोड़े

वहीं, जजों ने एक वैकल्पिक सजा के तौर पर शादीशुदा पुरुष को एक महिला के प्रति स्नेह दिखाने का दोषी पाया, क्योंकि वह महिला उसकी पत्नी नहीं थी. शुरुआत में व्यक्ति को 30 कोड़ों की सजा सुनाई गई थी. लेकिन आचे में शरिया सुप्रीम कोर्ट में दायर अपील पर सुनवाई के बाद उसकी सजा को घटाकर 15 कोड़े कर दिया गया. अभियोजकों के मुताबिक, नाबालिग के साथ यौन संबंध बनाने का दोषी पाए गए एक अन्य व्यक्ति को भी गुरुवार को 100 बार कोड़े मारे गए और अपराध के लिए 75 महीने जेल में की सजा भी दी गई. वहीं, सजा के दौरान बड़ी संख्या में लोग भी मौजूद रहे, जिन्होंने कैमरों में घटना को रिकॉर्ड किया.

शक्तिशाली इस्लामी सल्तनतों में से एक था आचे

आचे मुस्लिम बहुल इंडोनेशिया में एकमात्र ऐसा इलाका है, जहां इस्लामी कानून लागू किया गया है. यहां पर जुआ खेलने, अवैध यौन संबंध बनाने और समलैंगिक रिश्ता रखने पर कोड़े मारने की सजा दी जाती है. कभी दक्षिण पूर्व एशिया में सबसे शक्तिशाली इस्लामी सल्तनतों में से एक रहे इस क्षेत्र ने लंबे समय से स्थानीय कानूनों के साथ मिलेजुले इस्लामी कानून का इस्तेमाल किया. इसे ‘हुकुम अदत’ के नाम से जाना जाता है. आचे प्रांत में चल रहे अलगाववादी संघर्ष को खत्म करने के लिए इसे स्वायत्ता प्रदान की गई, ताकि अलगाववादी विद्रोह को कुचल दिया जाए.

Check Also

यूक्रेन पर हमला होने पर बाइडेन ने पुतिन को दी व्यक्तिगत प्रतिबंध की चेतावनी

वाशिंगटन/लंदन, 26 जनवरी (आईएएनएस)| यूक्रेन को लेकर मौजूदा तनाव के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन …