सूत्रों के मुताबिक, पुलिस ने उस गाड़ी की पहचान कर ली है, जिसमें श्रद्धा के कपड़े फेंके गए थे. पुलिस ने दो ऐसी जगहों की पहचान की है, जहां डस्टबिन का कचरा डाला जाता था। उन जगहों पर सर्च ऑपरेशन जारी है.

श्रद्धा हत्याकांड के आरोपी आफताब अमीन पूनावाला ने पुलिस के सामने चौंकाने वाला खुलासा किया है। जानकारी के अनुसार श्राद्ध के टुकड़े-टुकड़े करने के बाद आरोपी ने पहचान छिपाने के लिए अपना चेहरा जला लिया. पूछताछ में उसने बताया कि उसे यह सारी जानकारी इंटरनेट के जरिए मिली है। सूत्रों के मुताबिक, पुलिस ने उस गाड़ी की पहचान कर ली है, जिसमें श्रद्धा के कपड़े फेंके गए थे. पुलिस ने दो ऐसी जगहों की पहचान की है, जहां डस्टबिन का कचरा डाला जाता था। उन जगहों पर सर्च ऑपरेशन जारी है.

श्रद्धा हत्याकांड दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती 

 

श्रद्धा हत्याकांड दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती श्रद्धा हत्याकांड दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती बनता जा रहा है। दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने बताया कि आमतौर पर पुलिस खून के धब्बों का पता लगाने के लिए अपराध स्थल पर बेंजीन नामक रसायन फेंकती है। जिस कारण जहां भी खून के धब्बे होते हैं, वह स्थान लाल हो जाता है। लेकिन आफताब ने न जाने किस केमिकल से घर की सफाई की है, हत्या की जगह पर बेंजीन डालने के बाद भी खून के धब्बे नहीं मिले. बड़ी मुश्किल से किचन के निचले शेल्फ पर जहां गैस सिलेंडर रखे हैं, खून के धब्बे मिले।

आफताब इतना शातिर है कि बिस्तर पर कोई सबूत नहीं छोड़ता। आफताब ने श्रद्धा के शव के 35 टुकड़े 18 पॉलिथीन बैग में पैक कर फ्रिज में रख दिए. उसे सजा देने के लिए लाश के टुकड़ों वाली वह सब पॉलीथिन चाहिए। लेकिन न तो शरीर के सारे अंग मिले और न ही फ्रिज से खून के धब्बे मिले। बेंजीन टेस्ट के बाद भी फ्रिज में खून के धब्बे नहीं मिले। पुलिस और फॉरेंसिक टीम भी हैरान है कि उसने कितनी चतुराई से हत्या को अंजाम दिया है।