आजीविका संर्वद्धन के लिए जिले की परिस्थितियों के आधार पर बनायी जाए ठोस नीतिः सचिव दीपक कुमार

गोपेश्वर, 08 दिसम्बर (हि.स.)। उत्तराखंड शासन के सचिव कार्यक्रम क्रियान्वयन दीपक कुमार ने गुरुवार को चमोली जिला मुख्यालय गोपेश्वर के विकास भवन सभागार में विभिन्न विभागीय अधिकारियों की बैठक लेते हुए संचालित योजनाओं की जानकारी ली।

उन्होंने निर्देशित किया कि प्रदेश की आजीविका संर्वद्धन के लिए जनपद की परिस्थितियों के आधार पर नीति बनाई जाए और सभी विभागों को इसमें सम्मलित करते हुए बेहतर ढंग से योजनाओं को क्रियान्वित किया जाए।

सचिव ने कहा कि प्रदेश की जीडीपी में सुधार करना एवं प्रदेश की आय दोगुनी करना मुख्यमंत्री की प्राथमिकता है। इसके लिए राज्य में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ाना, उद्यानीकरण के क्षेत्र में किसानों को आत्मनिर्भर बनाना, ऊर्जा हाइड्रो पावर/सोलर पावर को विकसित करना, जड़ी बूटी उत्पादन बढाना की दिशा में ठोस कार्ययोजना के साथ काम करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि राज्य एवं केंद्र सरकार की ओर से संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों को अनुशासित ढंग से गति प्रदान करें। ताकि गांव, जनपद एवं प्रदेश का तेजी से विकास हो सके। उन्होंने कहा कि योजनाओं में खर्च करना महत्वपूर्ण नही है, बल्कि योजनाओं का गुणवत्ता के साथ क्रियान्वित करना जरूरी है। पिछले वर्षो में जो कार्य हुए है, उन योजनाओं से कितना लाभ हुआ, इसका आंकलन करें।

सचिव ने कहा कि प्रदेश की आय बढाने के लिए पर्यटन को विकसित किया जाना आवश्यक है। उन्होंने निर्देश दिए कि शीतकालीन पर्यटन को बढाने की दिशा में कार्ययोजना तैयार करें। पर्यटन सभावित स्थलों को योजनाओं से जोड़कर विकसित करें। वन क्षेत्रों में ईको टूरिज्म को बढावा दिया जाए। जनपद में टूरिज्म सर्किट तैयार करें। हाइड्रो पाॅवर के तहत छोटे-छोटे चैकडैम के प्रस्ताव उपलब्ध करें। उद्योग क्षेत्र को बढाया जाए। पर्यटन गतिविधियों को बढाने के लिए पर्यटन के साथ वन, राजस्व एवं अन्य विभाग आपसी समन्वय बनाकर एक साथ कार्य करें।

सचिव ने बागवानी के क्षेत्र में किसानों की आर्थिकी को मजबूत करने पर जोर देते हुए सचिव ने जनपद में जड़ी-बूटी के क्लस्टर विकसित करने की बात कही। जंगली जानवर किसान की फसलों को नुकसान न पहुंचाए इसके लिए वन विभाग को जंगलों में अधिक से अधिक फलदार पौधे लगाने के निर्देश दिए। जनपद के हिमालय क्षेत्रों में बर्फ के पानी को संरक्षित करने के लिए कार्ययोजना तैयार करें। ताकि पानी की समस्या को दूर किया जा सके। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत सभी दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में फोर जी इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। जिन क्षेत्रों में टावर लगाए जाने है उनके भूमि का प्रस्ताव तैयार करें।

सभी विभाग सरकार की प्राथमिकता के अनुसार कार्य करें। बहुउद्देश्यीय शिविरों एवं तहसील दिवसों के माध्यम से जनता को योजनाओं की जानकारी दी जाए, ताकि आम लोगों को योजनाओं का लाभ मिल सके। समस्याओं का सरलीकरण, समाधान एवं समयबद्धता से निस्तारण किया जाए। उन्होंने भयमुक्त समाज की दिशा में भी मिलकर कार्य करने के निर्देश दिए। कहा कि आज साइबर अपराध बड़ी समस्या बन रही है। इसको रोकने के लिए प्राथमिकता पर कार्य किया जाना चाहिए। सीमांत एवे छोटे किसानों को डीबीटी से मुक्त रखने के मामले में सचिव ने कहा कि इस समस्या से शासन को अवगत कराया जाएगा।

बैठक में जिलाधिकारी हिमांशु खुरान एवं मुख्य विकास अधिकारी डा.ललित नारायण मिश्र ने जनपद में संचालित योजनाओं से अवगत कराया।

Check Also

Skin Care Tips: गुलाबी ठंड में भी चाहिए साफ और ग्लोइंग स्किन, स्किन केयर रूटीन में शामिल करें ये चीजें..

हर कोई अपनी त्वचा से प्यार करता है और हर मौसम में इसे साफ और …