कोरोना के खिलाफ 5 और वैक्सीन को मिलेगी अनुमति

नई दिल्ली : देश में कोरोना का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। इस खतरे से निपटने के लिए भारत को जल्द ही 5 नई वैक्सीन मिल सकती हैं। अभी देश में सिर्फ दो वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है, लेकिन देश के कई हिस्सों से इसकी कमी होने की खबरें भी आने लगी हैं। ऐसे में अगर देश को कोरोना की 5 और वैक्सीन मिल जाती हैं, तो इससे कोरोना जैसी बीमारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान को और गति मिल सकेगी।
स्वास्थ्य मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार इस साल जुलाई से शुरू होने वाली तिमाही में कोरोना की पांच और वैक्सीन का इस्तेमाल शुरू हो सकता है। इन वैक्सीन में डॉ रेड्डीज़ के सहयोग से तैयार हो रही रूस की वैक्सीन स्पूतनिक वी, बायोलॉजिकल-ई के सहयोग से बन रही जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन, सीरम इंडिया के सहयोग से तैयार की जा रही नोवावैक्स वैक्सीन, जायडस कैडिला वैक्सीन और भारत बायोटेक की इंट्रानेजल वैक्सीन शामिल हैं।
बताया जा रहा है कि फिलहाल देश में कोरोना संक्रमण के लिए जिम्मेदार कोविड- 19 वायरस पर काबू पाने के लिए करीब 20 वैक्सीन पर अलग अलग क्लीनिकल और प्री क्लीनिकल ट्रायल चलाया जा रहा है। इन सभी वैक्सीन में स्पूतनिक- वी को सबसे पहले मंजूरी मिलने की उम्मीद है। खबर तो ये भी है कि रूस में तैयार की गई स्पूतनिक वी को अगले दस दिनों के अंदर भारत में आपातकालीन परिस्थिति में इस्तेमाल करने की अनुमति भी मिल सकती है। जबकि सभी क्लीनिकल ट्रायल सकारात्मक परिणाम के साथ पूरे होने के बाद उसे नियमित वैक्सीनेशन की भी अनुमति मिल जाएगी। इस वैक्सीन का उत्पादन करने के लिए रशियन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) ने भारत की कई फार्मा कंपनियों के साथ अग्रिम अनुबंध भी कर लिया है। ताकि सभी ट्रायल्स का परिणाम आने और सरकार से मंजूरी मिलने के बाद बड़े पैमाने पर इस वैक्सीन का उत्पादन किया जा सके।
मंत्रालय से मिली जानकारियों के मुताबिक स्पूतनिक वी के अलावा जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन को भी अगस्त तक मंजूरी मिल सकती है। इसी तरह अगस्त में ही जायडस कैडिला का टीका भी आ सकता है। नोवावैक्स को  सितंबर तक और भारत बायोटेक की इंट्रानेजल वैक्सीन को अक्टूबर तक भारत में टीकाकरण की अनुमति मिल सकती है।

 

Check Also

कोरोना के खिलाफ जंग, सरकारी खरीद के नियमों में किया गया बदलाव

नई दिल्ली : कोरोना जैसी जानलेवा बीमारी का मुकाबला करने के लिए केंद्र सरकार ने …