5 हजार के लिए खुली पोल, 4 लाख बरामद:सामने आई सिपाही की नौकरी लगाने वाले बाप-बेटे की असलियत, दोनों गिरफ्तार

सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर करता था ठगी। - Dainik Bhaskar

सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर करता था ठगी।

  • कई बेरोजगार युवकों को होमगार्ड में सिपाही की नौकरी दिलाने के नाम पर करता था ठगी
  • रजिस्टर से पुलिस को मिली कई जानकारी, SBI का तीन ब्लैंक चेक भी बरामद

महज 5 हजार रुपए के चक्कर में पटना पुलिस के सामने जालसाज बाप-बेटे की बड़ी असलियत सामने आ गई। बाप-बेटे मिलकर सिपाही की नौकरी लगा रहे थे। नौकरी लगवाने के नाम पर सरकारी नौकरी की चाह रखने वालों से मोटी रकम की ठगी कर रहे थे। जब यह सच्चाई सामने आई तो पुलिस भी दंग रह गई। यह मामला दानापुर थाना के तहत यदुवंशी नगर इलाके का है। इस इलाके में किराए के मकान पर सुरेंद्र यादव अपने बेटे भूपेंद्र कुमार यादव के साथ रहता था। पुलिस ने जब इसके घर पर छापेमारी की तो आश्चर्य में पड़ गई। घर के एक कमरे में रखे 4 लाख 55 हजार रुपए बरामद हुए।

रजिस्टर में पूरा डिटेल
ये रुपए उन युवकों से लिए गए थे, जो सरकारी नौकरी की चाह रखते हैं। दोनों बाप-बेटों ने मिलकर कई बेरोजगार युवकों को होमगार्ड में सिपाही की नौकरी लगवाने का झांसा दिया था। इसी के नाम पर लाखों रुपए की ठगी की गई थी। इन लोगों ने रुपए कब और किससे लिए थे। इसका पूरा डिटेल एक रजिस्टर में मिला है। जिस पर युवकों का नाम, उनका पता, और उनसे लिए गए रुपए के बारे में सुरेंद्र यादव ने अपने हाथों से लिखा है। कमरे से पुलिस के हाथ संजीत कुमार, पप्पू कुमार, अक्षय कुमार, पवन कुमार, प्रेम कुमार और पवन कुमार नाम के युवकों का शैक्षणिक प्रमाण पत्र भी बरामद हुआ। SBI का तीन ब्लैंक चेक भी मिला।

डुमरावं के लड़के ने दिया था कर्ज
जालसाज बाप-बेटों की असलियत सामने आने के पीछे की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है। बक्सर जिले के डुमरावं का रहने वाला ज्ञान प्रकाश और भूपेंद्र कुमार यादव पटना जिले के एक कॉलेज में साथ में पढ़ाई करते हैं। कुछ महीनों पहले भूपेंद्र ने ज्ञान प्रकाश से 5 हजार रुपया कर्ज के तौर पर लिया था। बार-बार मांगने के बाद भी रुपए वापस नहीं मिल रहे थे। हाल में ही भूपेंद्र ने यह कह दिया था कि सिपाही बहाली में रुपया आएगा तो वापस कर देंगे। यह बात ज्ञान प्रकाश के दिमाग में बैठ गई। इसने चुपचाप तरीके से 22 फरवरी को दानापुर थाना को होमगार्ड में सिपाही की नौकरी लगाने के नाम पर रुपयों की ठगी करने के बारे में लिखित रूप से कंप्लेन कर दिया। पुलिस ने इसकी सूचना को गंभीरता से लिया और छापेमारी की। जिसमें पूरी सूचना सही साबित हुई। इस कारण सुरेंद्र और उसके बेटे भूपेंद्र को गिरफ्तार कर लिया। अब दानापुर थाना की पुलिस बाप-बेटे के कनेक्शन को खंगाल रही है। दोनों के मोबाइल नंबर का कॉल डिटेल निकालने में जुटी हुई है। सिटी एसपी वेस्ट अशोक मिश्रा के अनुसार इस मामले में अभी जांच चल रही है। संभावना है कि कुछ और नई बातें जांच के दरम्यान सामने आ सकती है।

 

Check Also

लालू को सांस लेने में दिक्कत:तेजस्वी बोले- पिताजी का क्रिएटिनी काफी बढ़ा हुआ, किडनी 25 फीसदी ही काम कर रही है

पटना में संत रविदास जयंती समारोह में बोलते तेजस्वी यादव। क्रिएटिनी ज्यादा बढ़ने पर मरीज …