पांच वर्षों में 403 भारतीय छात्रों की विदेश में मौत हुई, जिनमें से अधिकतर कनाडा में

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को लोकसभा में कहा कि 2018 से अब तक प्राकृतिक, आकस्मिक या बीमारी सहित विभिन्न कारणों से कुल 403 भारतीय छात्रों की विदेश में मृत्यु हो गई है। इनमें कनाडा में सबसे ज्यादा 91 जबकि ब्रिटेन में 48 भारतीय छात्र थे। रूस में 40, अमेरिका में 36, ऑस्ट्रेलिया में 35 और यूक्रेन में 21 भारतीय छात्रों की मौत हुई जबकि जर्मनी में 20, साइप्रस में 14, फिलीपींस और इटली में 10-10 और कतर, चीन और किर्गिस्तान में 9-9 भारतीय छात्रों की मौत हुई। विदेश मंत्री एस. विदेश में भारतीय छात्रों की सुरक्षा पर लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए जयशंकर ने कहा कि विदेश में भारतीय छात्रों का कल्याण, सुरक्षा सरकार के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है। विदेश में भारतीय मिशन/पोस्ट भारतीय छात्रों की किसी भी समस्या का समाधान भी प्राथमिकता के आधार पर किया जाता है।

किस देश में कितने छात्रों की मौत?

कनाडा 91

 ब्रिटेन 48

 रूस 40

 अमेरिका 36

 ऑस्ट्रेलिया 35

 यूक्रेन 21

 जर्मनी 20

 साइप्रस 14

 फिलीपींस 10

 इटली 10

 कतार 09

 चीन 09