300 साल पुराने दिवड़ी मंदिर का प्रशासन ने किया अधिग्रहण, चार दान पेटी पर लगाए ताले; मंदिर प्रबंधन महिला समिति ने जमकर किया विरोध

 

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अक्सर इस मंदिर में पूजा के लिए आते हैं। धोनी क्रिकेट खेलने से पहले से यहां आते रहे हैं।

  • प्रशासन का दावा- सरकारी जमीन पर बना है मंदिर, अब संचालन कमेटी करेगी देखरेख

तमाड़ में 300 साल पुराने दिवड़ी की सोलहभुजी मां दिवड़ी के मंदिर का जिला प्रशासन ने अधिग्रहण कर लिया है। मंदिर की चार दान पेटियों पर शुक्रवार को सरकारी ताले लगा दिए गए हैं। इस दौरान पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों को मंदिर प्रबंधन महिला समिति की सदस्यों के विरोध का सामना करना पड़ा। स्थानीय ग्रामीण और समिति से जुड़ी महिलाओं ने साढ़े तीन घंटे तक जमकर हंगामा किया।

अधिकारियों ने बताया कि मंदिर सरकारी जमीन पर बना है। मंदिर की देखरेख के लिए संचालन कमेटी बनाई गई है। अब वही कमेटी देखरेख करेगी। तमाड़ के पूर्व राजा महेंद्रनाथ शाहदेव के अनुसार, दिवड़ी मंदिर करीब 300 साल पुराना है। स्थानीय लोगों की आस्था मां दिवड़ी से जुड़ी है।

शुक्रवार की शाम 4 बजे बुंडू डीएसपी अजय कुमार, तमाड़ के बीडीओ राहुल कुमार, सीओ कमल किशोर सिंह और थाना प्रभारी चंद्रशेखर आजाद पुलिस बल के साथ मंदिर को कब्जे में कर लिया। उन्हें देखकर दर्जनों की संख्या में महिला और ग्रामीण जमा हो गए। वे प्रशासन की कार्रवाई का विरोध करने लगे। महिलाओं ने मंदिर को ग्रामीणों की संपत्ति बताते हुए प्रशासन को सौंपने से इन्कार कर दिया। सीओ ने प्रशासन की देखरेख में ग्रामीणों के साथ मिलकर मंदिर के संचालन का हवाला देकर समझाने का प्रयास किया, पर ग्रामीण मानने को तैयार नहीं थे। शाम 7.30 बजे अधिकारियों ने दानपेटी पर प्रशासन का ताला लगा दिया।

सीओ ने प्रशासन की देखरेख में ग्रामीणों के साथ मिलकर मंदिर के संचालन का हवाला देकर समझाने का प्रयास किया, पर ग्रामीण मानने को तैयार नहीं थे।

सीओ ने प्रशासन की देखरेख में ग्रामीणों के साथ मिलकर मंदिर के संचालन का हवाला देकर समझाने का प्रयास किया, पर ग्रामीण मानने को तैयार नहीं थे।

एसडीओ की अध्यक्षता में 12 अक्टूबर को बनी थी कमेटी
सीओ ने कहा कि 12 अक्टूबर को बुंडू के एसडीओ उत्कर्ष गुप्ता की अध्यक्षता में मंदिर संचालन को लेकर कमेटी बनी थी। कमेटी में एसडीओ, सीओ, मंदिर के मुख्य पुजारी और ग्राम प्रधान शामिल थे। कमेटी ने निर्णय लिया था कि अब ग्रामीण और सरकार मिलकर मंदिर की देखरेख करेंगे। दिवड़ी मंदिर के अधिग्रहण का प्रयास पहले हो चुका है। हालांकि, ग्रामीणों के विरोध के कारण सफलता नहीं मिली। मंदिर को राज्य के पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया गया है। इधर, मंदिर के अधिग्रहण पर ग्रामीणों में गुस्सा है।

इसी मंदिर में अक्सर आते हैं धोनी
भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अक्सर इस मंदिर में पूजा के लिए आते हैं। धोनी क्रिकेट खेलने से पहले से यहां आते रहे हैं। फिर 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप जीतने और 2011 में क्रिकेट वर्ल्ड कप जीतने के अलावा हर सीरीज खेलने के पहले यहां आते हैं। कहा जाता है कि धोनी के यहां आने के बाद मंदिर बहुत ज्यादा चर्चा में आ गया।

 

Check Also

फुटबॉल मैच देखने गए व्यक्ति का शव धान के खेत से बरामद, हत्या की आशंका

  शव को पोस्टमार्टम के लिए जामताड़ा भेज दिया गया है। (प्रतीकात्मक फोटो) अहिल्यापुर थाना …