22 मौतों के जिम्मेदार पारस अस्पताल के खिलाफ मोर्चा:आगरा में ‘आप’ ने डॉ. अरिंजय जैन पर हत्या का केस दर्ज कराने के लिए धरना शुरू किया, MP संजय सिंह भी पहुंचेंगे

 

आगरा में धरने पर बैठे आप कार्यकर्ता। इस दौरान लोग कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करते नजर आए। - Dainik Bhaskar

आगरा में धरने पर बैठे आप कार्यकर्ता। इस दौरान लोग कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करते नजर आए।

आगरा में पारस अस्पताल के मालिक डॉक्टर अरिंजय सिंह द्वारा मौत की मॉकड्रिल के खिलाफ आम आदमी पार्टी ने मोर्चाबंदी तेज कर दी है। गुरुवार को पार्टी पदाधिकारियों ने सेंट जोंस चौराहा स्थित हनुमान मंदिर के बाहर अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया है। जिलाध्यक्ष कपिल वाजपेई का कहना है कि शाम तक धरने में शामिल होने के लिए राज्यसभा सांसद संजय सिंह भी आगरा पहुंच रहे हैं। कार्यकर्ताओं का कहना है कि डॉक्टर अरिंजय और उनको बचाने वाले दोषी अधिकारियों पर हत्या का केस दर्ज किया जाए।

आप जिलाध्यक्ष कपिल का कहना है कि आक्सीजन बचाने की मॉकड्रिल कर 22 लोगों की जान लेने की बात डॉक्टर अरिंजय ने खुद कबूली है। इसके बाद भी महज महामारी एक्ट का मुकदमा दर्ज कर 200 रुपए के चालान में छोड़ा जा रहा है। इस मामले में दोषी अधिकारियों समेत सभी पर हत्या का मुकदमा दर्ज होना चाहिए। उन्होंने सवाल उठाया कि पूर्व में सील लगने के बाद अस्पताल को कोविड कैसे बनाया गया?

अभी आगरा के शाहीदनगर में एक अस्पताल में ऑक्सीजन की कालाबाजारी का मामला सामने आया और सील लगी पर उसे भी क्लीन चिट देकर सील खोल दी गयी। पारस अस्पताल के अंदर लैब को एक स्वास्थ्य विभाग का व्यक्ति संचालित कर रहा है। प्रशासन इतनी आक्सीजन की कमी को झुठला रहा है। सभी मिले हुए हैं।

जिलाध्यक्ष का कहना है कि जब तक कार्रवाई नहीं होगी। तब तक हम ऐसे ही धरना देंगे। मामले की गंभीरता को देखते हुए आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह भी शाम तक आगरा आ रहे हैं और कार्रवाई के लिए लड़ाई का नेतृत्व करेंगे।

कोविड नियम भूले कार्यकर्ता

धारा 144 लागू होने के बीच धरने के दौरान आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने धारा 144 का उल्लंघन करने के साथ साथ महामारी एक्ट का भी भरपूर उल्लंघन किया है।कार्यकर्ता मास्क हटा कर बिना सोशल डिस्टेंसिंग के बैठे हैं।

क्या था मौत का मॉक ड्रिल?

बीते सोमवार को आगरा के पारस अस्पताल के संचालक अरिंजय जैन का स्टाफ से बात करते हुए 4 वीडियो सामने आए थे। जिसमें डॉक्टर जैन मरीजों के ऊपर 5 मिनट की मॉक ड्रिल के नाम पर ऑक्सीजन बन्द करने और उस कारण 22 मरीजों के छंट जाने की बात कहते दिखाई दिए। इस प्रकरण में डिप्टी सीएमओ डॉक्टर आरके अग्निहोत्री ने थाना न्यू आगरा में पारस अस्पताल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। तहरीर में उन्होंने वायरल वीडियो में ऑक्सीजन खत्म होने की बात बोलकर भ्रामक स्थिति पैदा करने की बात कही। अस्पताल संचालक अरिंजय जैन के खिलाफ आपदा प्रबंधन, महामारी एक्ट की धाराएं लगाई गई हैं।

मांगी गई एलआईयू रिपोर्ट

एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद के अनुसार एक आम आदमी पार्टी द्वारा प्रदर्शन की जानकारी है। एलआईयू की रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

उप्र : नौ आईपीएस अफसरों का तबादला, प्रतीक्षारत रहे पवन कुमार बनाये गए एसएसपी मुरादाबाद

लखनऊ, 15 जून (हि.स.)। राज्य सरकार ने सोमवार देर रात नौ आईपीएस अफसरों का तबादला …