22 अक्टूबर के चुनाव के लिए उम्मीदवार लगा रहे हैं पूरा दमखम, विधानसभा मतगणना के बाद होगी विधान परिषद की मतगणना

 

विधान सभा चुनाव से पहले हो रहे इस चुनाव की मतगणना 12 नवम्बर को होगी।

  • 4 शिक्षक निर्वाचन और 4 स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के लिए मतदान होना है
  • विधान सभा चुनाव के साथ ही इसकी भी मतगणना 12 नवम्बर को होगी

बिहार विधान सभा चुनाव के साथ बिहार विधान परिषद के 8 सीटों के लिए भी चुनाव होना है। 4 शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र और 4 स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में होने वाले इस चुनाव के लिए 22 अक्टूबर को मतदान होना है। हालांकि विधान सभा चुनाव से पहले हो रहे इस चुनाव की मतगणना 12 नवम्बर को होगी। इस चुनाव को लेकर हर प्रत्याशी अपना पूरा दमखम लगाए हुए है। पटना, तिरहुत, कोसी और दरभंगा में स्नातक और शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव होगा। विधान परिषद के द्विवार्षिक चुनाव को लेकर 106 लोगों ने नामांकन किया है। इनमें स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के लिए 60 और शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के लिए 46 लोगों ने नामांकन किया है।

पटना स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से 2014 में महज 400 वोट से हारे व्यंकटेश कुमार शर्मा बताते हैं कि हर चुनाव में मतदाता बनाने पड़ते हैं। जो चुनाव लड़ता है वो हर बार अपने स्तर पर स्नातक मतदाता बनाता है। व्यंकटेश के मुताबिक ये प्रक्रिया गलत है, इनका भी वोटर कार्ड बना देना चाहिए। इस बार व्यंकटेश का मुकाबला फिर से मंत्री नीरज कुमार से होना है। व्यंकटेश ने कोरोना काल में चुनाव प्रचार फिजिकल डिस्टेंसिंग से तो की ही, साथ ही वो टेक्नोलॉजी का भी सहारा ले रहे हैं। हर पांच से अधिक बार लोगों के पास उनका रिकॉर्डेड कॉल जाता है। जिसमें वो अपील करते हैं कि स्नातक के मतदाता उनको वोट करें।

इस तरह के प्रचार माध्यम में कितना खर्च होता है उसको लेकर दैनिक भास्कर डिजिटल ने आईटी एक्सपर्ट कुणाल से बात की। उन्होने बताया कि इस तरह के कॉल के लिए टेली कंपनी से सर्वर खरीदा जाता है। जिसमें प्रति कॉल 15-20 पैसे लगते हैं। वो पैसा कॉल टाईम को लेकर भी तय होता है। प्रति लाख कॉल के लिए 15 सौ से 2 हजार रुपये लगते हैं। कुणाल कहते हैं कि भारत में दिल्ली एनसीआर, पुणे और बंगलोर में इस तरह की कंपनियां काम करती हैं। ये कॉल उन्हीं क्षेत्रों से आते हैं।

स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के लिए पटना सीट से 14, तिरहुत सीट से 12, कोसी सीट से 17 और दरभंगा सीट को लेकर 17 लोगों ने नामांकन किया है। वहीं, शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के लिए पटना से 8, दरभंगा से 16, तिरहुत से 10 और सारण से 12 लोगों ने नामांकन किया है। इस चुनाव में सीमित उम्मीदवार और सीमित मतदाता होते हैं।

 

Check Also

मुंगेर एसपी लिपि सिंह पर कार्रवाई में देरी महंगी पड़ी; तीन जिलों से पुलिस बल मंगाकर ठीक किया जा रहा लॉ एंड आर्डर

मुंगेर पुलिस की कार्रवाई के बाद एसपी लिपि सिंह सवालों के घेरे में हैं। लोगों …