अंतरजातीय विवाह करने पर 2.51 लाख का जुर्माना:गांववालों ने पहले 5 साल के लिए निकाला, तब दिल्ली चले गए थे; नौकरी छूटने पर वापस आए तो जुर्माना लगा दिया

एक तरफ सरकार अंतरजातीय विवाह करने पर लोगों को प्रोत्साहन के साथ आर्थिक रूप से मदद भी कर रही हैं। वहीं, समाज के कुछ लोग अंतरजातीय विवाह के विरोध में विवाहित जोड़ी को दंडित और प्रताड़ित कर रहे हैं। ऐसा ही मामला पूर्णिया जिले के चंपानगर ओपी क्षेत्र का है, जहां युवक-युवती को अंतरजातीय विवाह करना महंगा पड़ गया है।

अंतरजातीय विवाह करने पर प्रेमी युगल को गांव के लोगों ने पांच साल के लिए गांव से निकाल दिया। इसके साथ युगल जोड़ी पर 2.51 लाख रुपए का जुर्माना भी लगा दिया। पीड़ित जोड़े ने एसपी के समक्ष आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है।

पूर्णिया SP के पास फरियाद लगाने आए पीड़ित जोड़े के परिजन।

पूर्णिया SP के पास फरियाद लगाने आए पीड़ित जोड़े के परिजन।

क्या है मामला

चंपानगर ओपी क्षेत्र के चिरैया रहिका निवासी लड्डू सिंह व सोनी देवी ने बताया कि लड्डू कुशवाहा समाज से और सोनी गंगोत्री समाज से हैं। गांव के लोगों ने प्रेम विवाह और अंतरजातीय विवाह करने पर रोक लगा दिया है। फिर भी उन लोगों ने एक साल पूर्व घर से भागकर मंदिर में शादी कर ली। उसके बाद वह लोग गांव वालों के डर से दिल्ली चले गए। वहां गुड्डू एक फैक्ट्री में काम करने लगा, लेकिन मशीन में एक हाथ कट गया। हाथ कटने के बाद मालिक ने उसे नौकरी से भी निकाल दिया। एक तो लॉकडाउन और उस पर नौकरी भी चले जाने से लड्डू और सोनी को दो वक्त की रोटी पर भी आफत आ गई।

इसके बाद दोनों मजबूरन अपने गांव लौट आए। लड्डू और सोनी को देखते ही गांववाले भड़क गए और पंचायती कर दोनों पर 2.51 लाख रुपए का जुर्माना ठोक दिया। एक स्टांप पेपर पर दोनों से दस्तखत भी करवा लिया गया। पीड़ित ने बताया कि जुर्माना राशि नहीं देने पर लोग अब गांव से निकल जाने के लिए दबाव बना रहे हैं। जान से मारने की धमकी भी दी जा रही है। सोनी ने बताया कि वह गर्भवती भी है।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

JDU में सिर्फ नीतीश, पावर सेंटर पर फुल स्टॉप:ललन ने गुटबाज नेताओं को दी हिदायत, पार्टी एक, नेता एक; JDU हर गांव में बनाएगा 10-10 एक्टिव मेंबर

  ललन सिंह, राष्ट्रीय अध्यक्ष, जदयू। अब JDU में नीतीश कुमार के अलावा कोई पावर …