प्री मानसून की बारिश से शेखावाटी तर-ब-तर, चूरू के बीदासर में 133 मिमी बारिश

जयपुर, 22 जून (हि.स.)। राजस्थान में प्री मानसून की बारिश से दरख्तों की टहनियों पर हरियाली छा गई है। पहाड़ियों और जंगलों में नए कपोलें फूट आई हैं और बीजों ने प्रस्फुटित होना शुरू कर दिया है। प्रदेश के कई जिलों को प्री-मानसून ने तर कर दिया है। राजस्थान में सक्रिय प्री-मानसून के अब धीमे पड़ने की संभावना है। बंगाल की खाड़ी में लो-प्रेशर सिस्टम सक्रिय होने से मानसून भी अब तीन-चार दिन देरी से प्रवेश करेगा।

प्री मानसून की सक्रियता के कारण राजस्थान के शेखावाटी में मंगलवार को जोरदार बारिश हुई है। तेज बारिश के बाद कई कस्बे जलमग्न हो गए। फतेहपुर शेखावाटी में पानी भरने के बाद लोगों को नाव चलानी पड़ी। वहीं, सीकर में रेलवे स्टेशन पर पटरियां पानी में डूब गईं। मौसम केंद्र के मुताबिक मंगलवार को बीकानेर, हनुमानगढ़, चूरू, सीकर, श्रीगंगानगर समेत राजस्थान के कई हिस्सों में झमाझम बरसात हुई। सीकर में भी रुक-रुककर बारिश का दौर चलता रहा। जो दिन में दोपहर 12 बजे तक जारी रहा। 24 घंटे के दौरान सबसे ज्यादा बरसात चूरू के बीदासर में 133 मिमी हुई। बीकानेर के डूंगरगढ़ में भी 107 मिमी बारिश हुई। सीकर शहर, लक्ष्मणगढ़, फतेहपुर शेखावाटी और रामगढ़ शेखावाटी समेत कई कस्बों में पानी भर गया। सीकर शहर के नवलगढ़ रोड पर घुटनों तक पानी भर गया। इसके बाद पैदल चलने वालों और दुपहिया वाहन चालकों को परेशानी हुई। सीकर जंक्शन पर रेल की पटरियां पानी में डूब गई।

प्रदेशवासियों को मानसून का अभी कुछ दिन और इंतजार करना पड़ेगा। मौसम विभाग 25 जून तक प्रदेश में मानसून के आने के कयास लगा रहा था लेकिन अब इसके 30 तक आने का अनुमान है। मौसम केंद्र जयपुर के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि मानसून कोटा संभाग के पास से होते हुए मध्यप्रदेश पहुंचा है। राज्य में मानसून के प्रवेश करने में कुछ समय लगेगा। 22 जून से कुछ जिलों में प्री मानसून की बारिश में कमी आएगी। 23 जून से प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में मौसम शुष्क होने लगेगा। हालांकि, कुछ स्थानों पर बारिश हो सकती है। 23 के बाद अगले तीन-चार दिन मौसम शुष्क ही रहेगा। तापमान में भी फिर से वृद्धि होगी मगर लू नहीं चलेगी। मौसम के इस शुष्क चरण के बाद जब फिर से सिस्टम बनेगा, उसके साथ मानसून की एंट्री होने की संभावना है।

Check Also

चावल की खेती : अब बाढ़ के पानी में बचेगी धान की फसल, जानें ‘सह्याद्री पंचमुखी’ किस्म के बारे में

धान की बाढ़ प्रतिरोधी किस्म: वर्तमान में किसान विभिन्न संकटों का सामना कर रहे हैं। कभी असमानी तो कभी …