1000 बीघा में स्थापित हाेगा नया रीको, फूड प्रोसेसिंग सहित 300 इकाइयां लगेगी

 

  • बीकानेर हाइवे के पास न्यू रीको का मुख्यमंत्री ने किया शिलान्यास, शहर का तीसरा रीको हाेगा स्थापित, यहां के युवाओं को रोजगार भी मिलेगा

गोगेलाव स्थित बीकानेर हाइवे के पास जिला मुख्यालय का तीसरा नया औद्योगिक क्षेत्र (रीकाे) करीब एक हजार बीघा में स्थापित हाेगा। इसके लिए प्रशासनिक स्तर पर प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। न्यू रीको क्षेत्र का शनिवार रात्रि को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शिलान्यास वीसी के माध्यम से किया। बीकानेर रोड पर प्रस्तावित औद्योगिक क्षेत्र गोगेलाव का शिलान्यास ऑनलाइन किया गया।

यह प्रस्तावित औद्योगिक क्षेत्र 152.95 हैक्टेयर भूमि पर है। न्यू रीको स्थापित करने को लेकर प्रक्रिया गत चार साल से चल रही थी। नए औद्योगिक क्षेत्र स्थापित होने से यहां मुख्य रूप से फूड प्रोसेसिंग, कृषि संयंत्र आधारित इकाईयां, हैण्ड टूल्स प्लांट सहित फर्नीचर इत्यादि इकाइयों के स्थापित होगी। इन लघु उद्योगों के सहारे क्षेत्र में निवेश की संभावनाएं भी तेजी से बढ़ेगी ही, साथ ही क्षेत्र के बेरोजगारों के लिए भी रोजगार के नए अवसर भी उपलब्ध होंगे।

रीको के क्षेत्रीय प्रबन्धक अखिल कुमार अग्रवाल ने बताया कि न्यू रीको में लघु व मध्यम उद्योगों को प्रोत्साहन देने के प्रयोजन से करीब 300 इकाइयां स्थापित की जाएगी। जिसमें लगभग 2 हजार लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। ऑनलाइन शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान कलेक्ट्रेट परिसर में स्थित राजीव गांधी सम्पर्क सेवा केन्द्र के वीसी रूम में अधिकारी उपस्थित रहे।

2016 में शुरू हुई थी भूमि अवाप्त की प्रक्रिया, अब नया रीको स्थापित होने पर दो हजार से ज्यादा को मिलेगा रोजगार

गोगेलाव में औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने के लिए 152.95 हैक्टेयर भूमि अवाप्त की गई है। जिसके तहत 4 फरवरी 2016 को 19.77 करोड़ का अंतिम अवार्ड जारी किया जा चुका था। कुल 64 खातेदारों में से 19 खातेदारों को सीधे 5.96 करोड़ की राशि भूमि अवाप्ति अधिकारी के माध्यम से दी जा चुकी थी। करीब 25 बीघा भूमि पर आठ खातेदारों का कोर्ट स्टे शेष हैं। शेष खातेदारों के मुआवजे रेफरेंस कोर्ट में जमा किए जा चुके थे। 25 फरवरी 2018 को पर्यावरण स्वीकृति के लिए रिपोर्ट संबंधित कार्यालय को जमा करवाई गई थी।

पर्यावरण स्वीकृति मिलने के पश्चात अब विकास कार्य करवाकर औद्योगिक क्षेत्र के आवंटन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। यहां नए रीको क्षेत्र में हैंड-टूल्स इकाइयों के विकास के लिए क्लस्टर बनाया जाएगा। इसके लिए 25 एकड़ भूमि भी आरक्षित की है।

प्रशासनिक के बाद तकनीकी स्वीकृति मिलने पर ही आवंटन की प्रक्रिया होगी शुरू
बीकानेर हाइवे के पास गोगेलाव में न्यू रीको की डीपीआर बनाकर क्षेत्रीय प्रबंधक के द्वारा मुख्यालय पर भिजवाई गई है। यहां से प्रशासनिक स्वीकृति मिलने के बाद तकनीकी स्वीकृति क्षेत्रीय प्रबंधक को प्राप्त करनी होगी। इसके लिए औद्योगिक क्षेत्र में विकास कार्य की प्रक्रिया शुरू होगी। रीको क्षेत्र में नई सड़कें बनेगी। पॉवर लाइन कार्य होगा। इसके बाद यहां भूखंड आवंटन की प्रक्रिया विभागीय स्तर पर शुरू होगी। इसके बाद यहां नई इकाइयां स्थापित होगी।
इसलिए पड़ी जरूरत...पुराने रीको में विस्तार की नहीं बची जगह : जिला मुख्यालय के बासनी चौराहा के पास पहला, बीकानेर रोड स्थित दूसरा पुराने औद्योगिक क्षेत्र की सीमा के सभी भूखंड आवंटन हो चुके है। ऐसे में यहां औद्योगिक क्षेत्र के विस्तार के लिए जगह नहीं बची थी। क्षेत्रीय प्रबंधक अग्रवाल ने बताया कि पुराने रीको में जगह नहीं बचने से न्यू रीको की सर्वाधिक डिमांड है। क्षेत्र में दाल में मिल, हैंड टूल्स प्लांट, एग्रो फूड पार्क की डिमांड सर्वाधिक है। ऐसे में नए रीको में उद्यम लगने से रोजगार के अवसर पैदा होंगे और विकास के नए आयाम स्थापित होंगे।

इधर, बीकानेर हाइवे और बासनी के पास बने रीको में सुविधाओं को लेकर अभी भी काम अधिक नहीं हो सका है। उद्यमी बताते है कि बीकानेर हाइवे स्थित रिको में पानी सप्लाई जैसे मूल भूत सुविधा ही सही नहीं है। लघु उद्योग भारती जिलाध्यक्ष भोजराज सारस्वत बताते है कि हर काम के लिए एनओसी मांगनी पड़ती है। सड़क टूटी है और लाइट की व्यवस्था भी सही नहीं है।

 

Check Also

पंजाब में किसान आंदोलन के कारण ब्लैकआउट के आसार, कोयले की कमी से 5 थर्मल पावर प्लांट ठप

चंडीगढ़ : केंद्र के नए कृषि कानूनों के विरोध में अब पंजाब के लिए परेशानी …