10 बार शादी रचाने वाले किसान की संपत्ति विवाद में हत्या

बरेली। जनपद के भोजीपुरा इलाके में संपत्ति विवाद में एक किसान की हत्या कर दी गई है। हत्या के पीछे संपत्ति विवाद बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि 52 वर्षीय जगनलाल यादव ने दस शादियां की थी। उसे विरासत में कुछ करोड़ रुपए की पैतृक संपत्ति मिली थी। इस संपत्ति को वह अपने गोद लिए बेटे को देने की तैयारी में था। लेकिन ऐसा करने से पहले उसकी लाश एक खेत में पड़ी मिली है। हत्यारों ने उसके मफलर से ही उसकी गला घोंटकर हत्या की थी। भोजीपुरा के क्षेत्राधिकारी मनोज कुमार त्यागी ने बताया कि हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जगनलाल की गला दबाकर हत्या किए जाने की पुष्टि हुई है। वहीं उसके सिर पर चोट के निशान भी मिले हैं, जिससे यह अंदेशा लगाया जा रहा है कि मारने के लिए उसके सिर पर किसी वस्तु से वार किया गया था।

 

स्थानीय लोगों की मानें तो गोद लिए बेटे को संपत्ति देने के फैसले से उसके बड़े भाई नाखुश थे। वहीं जगनलाल ने 90 के दशक में शादी की थी। बताया जा रहा है कि उसकी पांच पत्नियों की कथित तौर पर बीमारी के चलते मौत हो गई थी, जबकि तीन अन्य पत्नियों ने उसे छोड़ दिया था। वर्तमान में वह 35 और 40 वर्ष की उम्र की दो पत्नियों के रह रहा था। पुलिस के अनुसार उसकी दोनों पत्नियां उसकी पहली शादी से अनजान थीं। एसएचओ ने बताया कि प्रथम दृष्टया हत्या के पीछे संपत्ति नजर आ रही है। उसकी जमीन मुख्य सड़क के पास से सटकर थी, जिसकी बाजार में अच्छी कीमत है। ग्रामीणों ने बताया कि कोई औलाद न होने की वजह से वह बार-बार शादी कर रहा था। वहीं एक युवक उसके साथ रहता है तो उसकी पहली पत्नी के पहले पति से पैदा हुआ बताया जा रहा है।

एसएचओ के मुताबिक जांच में पता चला है कि जगनलाल के पिता ने बार-बार शादी करने की वजह से उसे अपनी संपत्ति से बेदखल कर दिया था। अपनी पूरी 70 बीघा जमीन का स्वामित्व जगनलाल के बड़े भाई को हस्तांतरित कर दिया था। लेकिन उसके बड़े भाई ने वर्ष 1999 में पारिवारिक विवाद पर पंचायत के फैसले पर 14 बीघा जमीन उसे वापस कर दिया था।

Check Also

UP के 2.40 करोड़ किसानों के लिए खुशखबरी, ढूंढ-ढूंढ कर सरकार दे रही 3 लाख तक लोन, आप भी उठाएं फायदा

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने प्रदेश में प्रधानमंत्री किसान योजना (Pradhan Mantri Kisan Samman …