‎विकास के कारण बच गए मगरमच्छ

मैसच्यूसेट्स : एक ताजा अध्ययन के मुताबिक विकास के कारण मगरमच्छ जमीन पर और महासागरों में रहने लायक बन गए। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के असोसिएट प्रफेसर ऑफ ऑर्गैनिज्मिक ऐंड एवलूशन बायॉलजी डॉ. स्टेफनी पियर्स के मुताबिक प्राचीन मगरमच्छ कई तरीके के थे। ये समय के साथ जमीन पर चलना, पानी में तैरना, मछली पकड़ना और पौधे खाना सीख गए। उन्होंने बताया कि स्टडीज में पाया गया कि ये कई तरीके से विकसित हुए जिससे नई जगहों पर रहने लगे।

स्टडी के दौरान रिसर्चर्स ने 23 करोड़ साल पहले तक से इकट्ठा किए गए 200 खोपड़ों और जबड़ों को स्टडी किया। इनमें ऐसे मगरमच्छ शामिल थे जो विलुप्त हो चुके हैं। टीम ने अनैलेसिस किया कि कैसे अलग-अलग प्रजातियों में खोपड़े और जबड़े अलग-अलग थे। यह भी स्टडी किया गया कि कैसे मगरमच्छ समय के साथ बदलने लगे थे। स्टडी में पता लगा है कि विलुप्त हो चुकीं मगरमच्छ जैसी प्रजातियां कई साल में विकसित हुईं। कई बार ये स्तनपायी जैसी हो गईं। आज के मगरमच्छों, घड़ियालों को जिंदा अवशेष तक कहा जाता है।

रिसर्चर्स का कहना है कि ये सभी जीव पिछले 8 करोड़ साल में विकसित हुए हैं। जैव-विविधता के बढ़ने और घटने को मगरमच्छों और उनके पूर्वजों के जरिए समझा जा सकता है। सैकड़ों ऐसे मगरमच्छों के अवशेष हैं जिनमें काफी विविधता है। रहने के स्थान और खाने की वजह से विकास तेज होता है लेकिन मगरमच्छों में यह पहली बार देखा गया है।

Check Also

स्वर्ग से धरती पर गिरा था श्रीकृष्ण का रहस्यमयी पत्थर! 7 हाथियों के बल से भी नहीं हुआ टस से मस

दुनिया में ऐसी कई चीजें हैं, जिनके रहस्य को आज तक कोई नहीं समझ पाया …