हाथरस केस के आरोपी लवकुश के घर से सीबीआई को मिला ये अहम सुराग!

हाथरस। उत्तर प्रदेश के कथित हाथरस कांड जांच सीबीआई सीबीआई कर रही है। सीबीआई की टीम पिछले दो-तीन दिनों से  हाथरस में पीड़िता के गांव में लगातार पूछताछ कर रही है और सुराग इकट्ठा करने में लगी हुई है। इस बीच खबर है कि सीबीआई टीम ने मामले के एक आरोपी लवकुश के घर पहुंचकर छापेमारी की है। इस छापेमारी के दौरान सीबीआई की टीम को आरोपी लवकुश का घर की छानबीन करने के दौरान लाल निशान के धब्बे वाले कपड़े मिले हैं। जिस पर सीबीआई को शक है कि कपड़े पर खून के धब्बे हैं, लेकिन आरोपी लवकुश के परिवार का कहना है कि कपड़े पर खून नहीं, बल्कि लाल रंग के पेंट का निशान है। आपको बता दें कि हाथरस कांड की सच्चाई सामने लाने के लिए सीबीआई ने अब अपनी जांच की रफ्तार तेज कर दी है।

 

खबरों के मुताबिक सीबीआई ने आरोपी लवकुश के घर की छानबीन की है। इसके बाद लाल धब्बे से सने कपड़े को सीबीआई की टीम अपने साथ लेकर गई है। कपड़ों को लेकर जाने पर आरोपी लवकुश के भाई ने बताया कि जो कपड़े सीबीआई की टीम लेकर गई है, वो लवकुश के बड़े भाई रवि के है। लवकुश के भाई ललित ने कपड़ों के बार में बताते हुए कहा कि हमारे घर से सीबीआई की टीम छापेमारी के बाद कपड़े लेकर गई है। हमारे बड़े भाई डेंटिंग-पेंटिंग का काम करते हैं। उनके कपड़ों पर लाल रंग लगा था सीबीआई की टीम को लगा कि यह खून है और वो उन कपड़ों को अपने साथ ले गई है। ललित ने बताया कि सीबीआई की टीम ने हमारे घर पर दो से ढाई घंटे रुकी थी और हमसे कोई पूछताछ नहीं की।

 

आपकी जानकारी के लिए बताी दे कि इससे पहले बीते गुरुवार को जांच के तीसरे दिन सीबीआई की टीम ने चारों आरोपियों के घर पहुंचकर उनके परिवार के लोगो से पूछताछ की। टीम सबसे पहले आरोपी लवकुश के घर पहुंची थी, जहां उन्होंने करीब तीन घंटे तक आरोपी के परिवार वालों से पूछताछ की। बता दें कि सीबीआई टीम के पहुंचने की सूचना पर पुलिस ने आरोपियों के घर की सुरक्षा बढ़ा दी थी। वहीं आपको ये भी बता दें कि हाथरस कांड में आज यानी शुक्रवार को एसआईटी अधिकारियों को पूरे 17 दिन हो जायेंगे। अधिकारियों ने गांव के कुछ लोगों से बातचीत की। उसके बाद सारा रिकॉर्ड एकत्रित किया।

Check Also

यूपी पंचायत चुनाव 2020 से पहले गांव में खुफिया एजेंसियां खोज रहीं प्यार करने वालों को, जानिए वजह

खुफिया एजेंसियां अब गांव-गांव जाकर प्रेम-प्रसंग के मामले ढूंढ़ रही हैं। आगामी पंचायत चुनाव में …