स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी पीपीई किट पहनकर जिला अस्पताल के कोविड वार्ड पहुंचे, आधे घंटे बाद उतारी तो पसीने में तरबतर हो गए

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी शनिवार को शाम गृह जिले रायसेन के जिला अस्पताल में कोविड सेंटर का निरीक्षण करने पहुंचे। मंत्री जिला अस्पताल के कोविड सेंटर में पीपीई किट पहन कर आए। वह आधे घंटे तक यहां रुके। इस दौरान उन्होंने कोविड संदिग्ध और कोरोना के मरीजों से रूबरू बातचीत की। आधे घंटे बाद जब स्वास्थ्य मंत्री ने पीपीई किट उतारी तो पसीने से तरबतर नजर आए। पेशे से डॉक्टर स्वास्थ्य मंत्री से मरीजों और क्वारैंटाइन किए गए लोगों ने भोजन व्यवस्था और साफ-सफाई को लेकर शिकायतें भी कीं।

स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कोरोना मरीजों से पूछा कि वह कोरोना के चपेट में कैसे आए। साथ ही देखभाल, भोजन और इलाज को लेकर भी उनसे सवाल किए। स्वास्थ्य मंत्री इंडियन चौराहा स्थित कोविड केंद्र भी गए। निरीक्षण के आधे घंटे बाद जब स्वास्थ्य मंत्री ने पीपीई किट उतारी तो वे पसीने से तरबतर नजर आए।

स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने स्वास्थ्य अधिकारियों को मरीजों की देखभाल के जरूरी निर्देश दिए।

गर्ल्स हॉस्टल क्वारैंटाइन सेंटर में भी लोगों ने शिकायतें कीं
यह बात पोस्ट मैट्रिक कन्या छात्रावास में बनाए गए क्वारैंटाइन सेंटर पर कोविड के संदिग्ध मरीजों ने प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी से कही। शनिवार को स्वास्थ्य मंत्री चौधरी यहां पर निरीक्षण करने के लिए पहुंचे थे। क्वारैंटाइन सेंटर की अव्यवस्थाओं से जब संदिग्ध मरीजों ने यह शिकायत दर्ज कराई तो स्वास्थ्य मंत्री ने छात्रावास प्रभारी को बुलाकर सफाई नहीं होने की जानकारी ली।

मरीजों की देखरेख में लापरवाही नहीं चलेगी: स्वास्थ्य मंत्री
इस अव्यवस्था पर स्वास्थ्य मंत्री ने नाराजगी जताते हुए क्वारैंटाइन सेंटर पर नियमित साफ सफाई करवाने और भोजन व नाश्ता की क्वालिटी सुधारने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मरीजों की देखरेख में किसी भी प्रकार लापरवाही न बरती जाए।

कोविड के मरीजों के लिए पर्याप्त है बेड, 136 पलंग अभी खाली
जिले में कोविड के मरीजों के इलाज के लिए पर्याप्त संख्या में बेड उपलब्ध है। जिला अस्पताल के डेडिकेटेड कोरोना केयर सेंटर में 68 बेड है, जबकि इंडियन चौराहा स्थित कोरोना केयर सेंटर में 115 मरीजों को भर्ती रखने की सुविधा है। इसके अलावा जिला अस्पताल में कोविड मरीजों के लिज 20 बेड का आईसीयू भी तैयार हो रहा है। वर्तमान में यहां पर 47 मरीज ही भर्ती है। जबकि 136 बेड अभी खाली पड़े है। जिले में अब तक 340 कोरोना के मरीज मिल चुके हैं।

Check Also

हमजापुर गांव में मिला युवक का शव, परिजनों ने हत्या का लगाया आरोप

अलवर :  बहरोड थाने अंतर्गत हमजापुर गाव में एक युवक की लाश मिली। मृतक युवक की …