स्वास्थ्य मंत्री का टीके पर बड़ा खुलासा:सिंहदेव ने कहा- टीके बने नहीं थे और केंद्र सरकार ने कर दिया था वैक्सीनेशन का एलान, टीकाकरण न होने का आरोप राज्य सरकारों पर थोपा

 

सोमवार को मीडिया से मुखातिब हुए सिंहदेव ने टीकाकरण को लेकर बात की। - Dainik Bhaskar

सोमवार को मीडिया से मुखातिब हुए सिंहदेव ने टीकाकरण को लेकर बात की।

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने टीकाकरण को लेकर जारी सियासत के मुद्दे पर मीडिया से खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि टीकाकरण को लेकर केंद्र सरकार ने फैसला किया कि दो कंपनियों से देश को टीके मिलेंगे, देश के 30 करोड़ लोगों को दो डोज यानी की 60 करोड़ टीके लगेंगे। जनवरी में टीकाकरण का एलान कर दिया गया। मगर तब सरकार के पास 60 करोड़ टीके बने ही नहीं थे।

सिंहदेव ने आगे कहा कि जब बात सामने आने लगी की टीका है ही नहीं तो केंद्र सरकार कहती रही की कमी नहीं है। उनकी तरफ से अनने साथियों से कहा गया कि ऐसा माहौल बनाओ की टीके की कमी नहीं है। राज्यों पर इल्जाम थोपने को कहा गया। खुलकर ये बात सामने आई कि अब टीके बन ही नहीं रहे लोगों ने भी समझा कि नोटबंदी की तरह बिना नोट छापे ही सरकार ने नोटबंदी कर दी थी वही हाल वैक्सीनेशन के मामले में हुआ। अब कहा जा रहा है जुलाई-अगस्त से आपूर्ति होगी, तो सोचिए कि 7 महीने बाद अब पर्याप्त टीके देने की बात कर रहे हैं।

डॉ रमन सिंह पर पलटवार
एक दिन पहले रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस लेकर डॉ रमन सिंह ने कहा कि प्रदेश में 30 प्रतिशत टीके वेस्ट हुए, लोगों को टीका नहीं लगा, सरकार ने खरीदी नहीं की। इसपर जवाब देते हुए सिंहदेव ने कहा कि हम किस चीज के पैसे देते टीका कंपनियांे को जब टीके थे ही नहीं। टीके बनेंगे तब तो हम लगें और लोगों का वैक्सीनेशन होगा। सच यही है कि टीके नही होने के कारण ही समय पर लोगों को टीके नहीं लग पाए ।

प्रदेश में टीकाकरण की सच्चाई
स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक प्रदेश में 20 प्रतिशत लोगों को टीका लग चुका है। राज्य के लोगों की आबादी 2 करोड़ 93 लाख है। लगभग 1 करोड़ 80 लाख वयस्क हैं। इसमें से 60 लाख लोगों को टीका लगाया जा चुका है। सिंहदेव ने कहा कि 77 प्रतिशत 45 प्लस एज कैटेगरी को टीका लग चुका है। डॉ रमन सिंह केंद्र सरकार के पोर्टल के आधार पर बात कर रहे हैं धरातल के आधार पर नहीं।

पोर्टल में सिर्फ वही डेटा है जो अपडेट किया गया। केंद्र के पोर्टल कोविन के मुताबिक प्रदेश में 30 परसेंट टीका बर्बाद होने का दावा किया गया। यहां 70 लाख टीके मिले तो उस आंकड़े मुताबिक यहां तो 21 लाख टीके बर्बाद हो गए, जबकि ऐसा नहीं है। डॉ रमन सिंह को केंद्र के पोर्टल वालों से कहना चाहिए कि आंकड़े ठीक करें।

आंकड़ों में टीकाकरण

  • 18 से 44 एज ग्रुप में राज्य को अब तक प्राप्त 9 लाख 38 हजार 530 डोज मिले
  • 9 लाख में से 7 लाख 99 हजार 832 डोज का टीकाकरण किया जा चुका है।
  • प्रदेश में 18 प्लस एज ग्रुप में 20.29 प्रतिशत जनसंख्या को पहली डोज दी जा चुकी है।
  • 1 मई को कोवैक्सीन की 1 लाख 50 हजार, 8 मई को कोविशील्ड की 3 लाख 50
  • प्रदेश को जनवरी से लेकर 6 जून तक 23 खेपों में 75 लाख 92 हजार 780 डोज कोविशिल्ड वैक्सीन मिली
  • वहीं जनवरी से अब तक 8 खेपों में सिर्फ़ 5 लाख 66 हजार 300 डोज कोवैक्सीन प्राप्त मिली

 

खबरें और भी हैं…
NEWS KABILA

Check Also

निर्यात को बढ़ावा देने और आयात का देश में विकल्प खोजने के लिये ही ‘आत्मनिर्भर भारत’ योजना: गडकरी

  आत्मनिर्भर भारत योजना के पीछे सरकार की मुख्य सोच निर्यात को बढ़ावा देना और …