सोनीपत की जेल में गैंग वार:उम्र कैद की सजा काट रहे अपराधी की पीट-पीटकर हत्या; पुलिस को उसी की गैंग पर शक

सोनीपत में जिला जेल से सिविल अस्पताल की मोर्चरी में लाई गई कैदी की लाश। - Dainik Bhaskar

सोनीपत में जिला जेल से सिविल अस्पताल की मोर्चरी में लाई गई कैदी की लाश।

सोनीपत की जिला जेल में रविवार को एक कैदी जगबीर की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। वह हत्या के ही एक मामले में सजा काट रहा था। उस पर जेल में कुछ लोगों ने हमला कर दिया। पुलिस को शक है कि उसी गैंग के लोगों ने इस कैदी पर हमले की वारदात को अंजाम दिया है, जिससे उसकी मौत हो गई। मृतक की पहचान जिले के गांव कासंडी निवासी जगबीर के रूप में हुई है।

बुटाना गांव के संजय की 2009 में कोर्ट में ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वह कोर्ट परिसर में हत्या के मामले की सुनवाई के लिए आया था। उसी दौरान रंजिश के चलते की गई हत्या के मामले में कासंडी के जगबीर का नाम आयाा था। जगबीर उसी मामले में कोर्ट से फैसला आने के बाद जगबीर उम्रकैद का सजायाफ्ता था। बुटाना गांव में 1995 में जगबीर का गांव के ही संजय के परिवार से जमीन का झगड़ा चल रहा था।

1996 में संजय ने जगबीर के परविवार पर जानलेवा हमला किया। रंजिश की इस आग से बचने के लिए उन्होंने डर के मारे 13 जनवरी 1998 में गांव छोड़ दिया था और कासंडी अपने परिचित के पास आकर रहने लगे थे, लेकिन संजय के मन में पल रही रंजिश की आग शांत नहीं हुई। उसने अपने साथियों से मिलकर 25 अक्टूबर 2008 को जगबीर के परिवार के फूलकंवार की हत्या करा दी थी।

इस मामले में पुलिस ने कृष्ण को गिरफ्तार कर लिया था। लेकिन संजीव उद्घोषित अपराधी करार दिया गया था। अदालत ने 31 मार्च 2012 को मामले में सुनील पुत्र सुरेश, बसंत, मनोज, सुनील पुत्र रामफल और अशोक को बरी कर दिया था। चार अप्रैल को आरोपी कृष्ण को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। बाद में पुलिस ने आरोपी संजीत को भी पकड़ लिया था। ऐसे में अब अदालत ने उसे दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई।

इस रंजिश में पहले 2009 में जगबीर ने संजय बुटाना की कोर्ट में ही गोली मारकर हत्या की। 2010 में संजय के चाचा ओमप्रकाश की भी कोर्ट परिसर में ही गोली मारकर हत्या की गई थी। जहां तक हालिया स्थिति की बात है, जमानत पर बाहर निकले जगबीर को चार दिन पहले ही अवैध हथियार के साथ गिरफ्तार किया गया। शनिवार को कोर्ट में पेशी के बाद उसे जिला कारागार लाया गया था। इसके बाद जेल में हुए झगड़े के दौरान आरोपी की हत्या कर दी गई। मामले की जांच जारी है।

 

Check Also

MP में शिक्षा पर मंथन:नई शिक्षा नीति में शिक्षकों पर रहेगा ज्यादा फोकस; बदलाव के लिए 20 साल का लक्ष्य रखा, सुझाव CM को भेजे जाएंगे

दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आज समापन हो गई। दो दिवसीय कार्यक्रम में संस्कार के …