सावधान! कोरोना से इस मौत ने डरा दिया है:NMCH के स्टूडेंट की मौत से हड़कंप; भुवनेश्वर की लैब में होगी जांच, कांटैक्ट ट्रेसिंग भी होगी

 

फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

फाइल फोटो।

  • NMCH के ओल्ड और न्यू हॉस्टल के सभी स्टूडेंट्स की कराई जा रही है जांच
  • बेगूसराय में मेडिकल स्टूडेंट के घर वाला इलाका बनाया जाएगा माइक्रो कंटेनमेंट जोन

अगर आप कोरोना की गाइडलाइन को लेकर लापरवाह हैं तो सावधान हो जाइए। आपकी एक गलती आपकी और आपके परिवार वालों की जान पर भारी पड़ सकती है। NMCH में मेडिकल स्टूडेंट की मौत प्रदेश में हड़कंप मच गया है। कई टीम जांच के लिए लग गई हैं। मेडिकल स्टूडेंट के गांव बेगूसराय और ननिहाल लखीसराय के साथ पटना में भी कांटैक्ट ट्रेसिंग की जा रही है। जांच के दौरान मृतक मेडिकल स्टूडेंट के 8 क्लोज फ्रेंड पॉजिटिव पाए गए हैं। वायरस के नेचर की जांच के लिए नमूना भुवनेश्वर भेजा जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने क्लास बंद करने के साथ न्यू और ओल्ड सभी हॉस्टल के स्टूडेंटस की जांच कराने का निर्देश दिया है।

मौत के बाद वायरस के नेचर को लेकर हड़कंप

प्रदेश में कोरोना से मौत का ग्राफ काफी कम हो गया था। संक्रमण का मामला भी तेजी से नीचे आ रहा था। ऐसे संक्रमित लोगों की मौत हो रही है जो गंभीर बीमारी से पीड़ित रहे हैं। इस बीच एक मार्च की रात में पटना के NMCH में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे स्टूडेंट बेगूसराय के शुभेंदु की मौत ने कोरोना के नेचर को लेकर हड़कंप मचा दिया है। देश के कई प्रदेश में कोरोना का नया स्ट्रेन आने से लॉकडाउन की स्थिति बनी है। मेडिकल स्टूडेंट की मौत के बाद अब कोरोना वायरस के नए लहर को लेकर जांच तेज कर दी गई है। NMCH में जांच के लिए कई टीम लगी हुई है।

सामने आया वायरस का नया नेटवर्क

मेडिकल स्टूडेंट शुभेंदु सुमन की मौत के बाद कांटैक्ट ट्रेसिंग का बड़ा मामला सामने आया है। जांच में पता चला कि मेडिकल स्टूडेंट शुभेंदु को घर जाते समय पता हो गया था कि वह कोविड संक्रमित हो गया है, लेकिन इसकी जानकारी हॉस्टल और NMCH प्रशासन को नहीं हो पाई थी। जांच में पता चला कि स्टूडेट अपने घर बेगूसराय के दहिया गांव जाने के बाद स्थानीय स्तर पर एक निजी अस्पताल में इलाज कराया था। जांच में यह भी पता चला है कि शुभेंद्र सुमन अपने ननिहाल लखीसराय भी गया था। ऐसे में पटना से लेकर लखीसराय तक कांटैक्ट ट्रेसिंग कराई जा रही है।

वैक्सीन आने के बाद लापरवाह हुए लोग

वैक्सीन आने के बाद से ही लोग लापरवाह हो गए हैं। वह भूल गए हैं कि कोरोना का वायरस अभी भी जान ले सकता है। मेडिकल स्टूडेंट शुभेंदु सुमन की मौत के बाद अब हड़कंप मचा है तो कांटेक्ट ट्रेसिंग के साथ अब लोगों से कोविड गाइडलाइन के पालन करने की अपील की जा रही है। वैक्सीन आने के बाद ही स्कूल खोल दिए गए। बाजार में कोरोना की गाइडलाइन तोड़ने वालाें पर कार्रवाई का नियम सुस्त पड़ गया। ऐसे में गली मोहल्लों से लेकर सार्वजनिक स्थानों पर कोरोना की गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा है। ऐसे में खतरा बढ़ सकता है। बेगूसराय के डीएम से लेकर पटना में जांच में जुटे मेडिकल अफसरों का कहना है कि थोड़ी सी लापरवाही भारी पड़ सकती है।

दहशत में NMCH के मेडिकल स्टूडेंट्स

NMCH के मेडिकल स्टूडेंट्स दहशत में हैं। जांच में अब तक 8 स्टूडेंट पॉजिटिव आए हैं, 6 को अस्पताल में भर्ती कर लिया गया है शेष दो की तलाश की जा रही है। हॉस्टल में सभी मेडिकल छात्र छात्राओं की जांच के लिए आदेश दिया गया है। बुधवार को NMCH पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि बेगूसराय के निवासी और NMCH के मेडिकल स्टूडेंट शुभेंदु की मौत काफी दुखद है। जांच में पाया गया है कि वह हॉस्टल में थे और लक्षण के बाद जांच कराए थे। जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई इसके बाद वह अपने घर भगवानपुर चले गए। एक ही रात भगवानपुर में थे, इस दौरान उनकी मौत हो गई।

पता लगाया जा रहा हॉस्टल में संक्रमण का स्रोत

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत का कहना है कि संक्रमण का स्रोत पटना में NMCH का हॉस्टल ही है। मौत के बाद कांटैक्ट ट्रेसिंग का काम कराया जा रहा है। आज परिवार के सभी सदस्यों की जांच कराई जाएगी साथ ही साथ यह भी निर्देश दिया गया है कि घर के आसपास के सभी घरों के हर व्यक्ति का एंटीजेन टेस्ट कराया जाए। तबियत खराब होने के बाद जिस प्राइवेट अस्पताल में इलाज कराया वहां भी लोगों की जांच कराने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया गया है। जांच में संपर्क में आए लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो क्षेत्र को माइक्रो कंटेनमेंंट जोन बनाया जाएगा।

पटना से लेकर बेगूसराय तक खंगाला जा रहा नेटवर्क

प्रधान सचिव का कहना है कि जांच में हॉस्टल के 8 स्टूडेंटस पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें हॉस्पिटल में लाया गया है। जितने भी स्टूडेंटस ओल्ड और न्यू हॉस्टल में हैं उनकी जांच आज रात तक करा ली जाएगी। इससे यह अंदाजा लग जाएगा कि कि स्प्रेड कितना है। 24 घंटे तक सभी तरह के क्लास पर रोक लगा दी गई है। रात में जांच पूरी होने के बाद आगे निर्णय लिया जाएगा। जांच में पता चला है कि मेडिकल स्टूडेंट अपने ननिहाल लखीसराय गया था वहां भी कांटेक्ट ट्रेसिंग व जांच कराई जा रही है। वह किस गाड़ी से गए थे, किस कैब से गए थे इसकी जांच कराई जा रही है। इंफेक्शन का सोर्स क्या है इसकी पड़ताल की जा रही है।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

मरी फिशिंग कैट के नाखून उखाड़ने लगे लोग:गोपालगंज में किसी गाड़ी की चपेट में आकर कुचली गई विलुप्त प्रजाति की बिल्ली, लोग मान रहे तेंदुए या चीते का बच्चा

गोपालगंज में NH 28 पर मरी पड़ी फिशिंग कैट। गोपालगंज में NH 28 पर मंगलवार …