साइबर ठगों ने रांची DC को भी नहीं बख्शा:डिप्टी पुलिस कमिश्नर रांची का फर्जी अकाउंट बनाकर लोगों से पैसे ठग रहा था, शिकायत के बाद साइबर सेल ने डिसेबल डिलीट किया एकाउंट

 

जब DC को इसकी सूचना मिली तो उन्होंने तुरंत इसका स्पष्टीकरण जारी किया। उन्होंने कहा कि उनके नाम का फेक एकाउंट बना कर पैसे की मांग की जा रही है। - Dainik Bhaskar

जब DC को इसकी सूचना मिली तो उन्होंने तुरंत इसका स्पष्टीकरण जारी किया। उन्होंने कहा कि उनके नाम का फेक एकाउंट बना कर पैसे की मांग की जा रही है।

साइबर ठग अब आम लोगों की जगह आला अधिकारियों को निशाना बना रहे हैं। सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को ठगने वाले ठग ने रांची के DC को भी नहीं बख्शा। डिप्टी कमिश्नर रांची के एकाउंट की क्लोन आईडी बना ली। इसके माध्यम से वह DC से कई लोगों से पैसे की मांग कर रहा था।

साइबर डीएसपी यशोधरा ने बताया कि सूचना मिलते ही साइबर ब्रांच रांची की तरफ से आईडी को डिलिट करने के लिए आवेदन दिया गया था। सोमवार रात को फेसबुक ने इस पर कार्रवाई करते हुए क्लोन एकाउंट को डिसेबल कर दिया था। कार्रवाई के लिए डीसी रांची ने एसएसपी रांची को आवेदन भी दिया है। पुलिस फ्रॉड को ट्रेस करने में जुट गई है।

50 हजार रुपए तक की मांगी मदद
हैकरों ने कई लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजा था। रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने के बाद हैकर पूछ रहे हैं कि अभी आप कहां है। आपके पास पे फोन या गुगल पे है क्या। इसके बाद किसी से 50 हजार तो किसी से 30 हजार रुपए तक की मांग की।

DC को देनी पड़ी सफाई
जब DC छवि रंजन को इसकी सूचना मिली तो उन्होंने तुरंत इसका स्पष्टीकरण जारी किया। उन्होंने कहा कि उनके नाम का फेक एकाउंट बना कर पैसे की मांग की जा रही है। कोई पैसा नहीं दे। देर रात जिला प्रशासन ने भी फेक एकाउंट बनाए जाने की सूचना दी और कहा कि फेक प्रोफाइल बना कर पैसे की मांग की जा रही है।

फरवरी में कोडरमा DC का अकाउंट भी हुथा था हैक
इससे पहले फरवरी में साइबर क्रिमिनलों ने कोडरमा जिले के डीसी रमेश घोलप और एसपी डॉ एहतेशाम वकारीब का निजी फेसबुक अकाउंट हैक कर लिया था। मैसेंजर के जरिए लोगों को मैसेज कर पैसे की मांग किया था।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

वैक्सीन पर कांग्रेस ने फैलाया भ्रम, देशवासियों के स्वास्थ्य को खतरे में डाला : भाजपा

रामगढ़ : कोरोना के खिलाफ चल रही जंग को कांग्रेस ने लगातार कमजोर करने की …