सस्ते में मिलेगे शादी-विवाह घर, याेगी सरकार प्रारम्भ कर रही है नयी योजना, जानिए क्या होंगी शर्तें

छोटे शहरों यानी नगर पालिका परिषद और नगर पंचायतों में रहने वालों को अब अपने बच्चों की विवाह या फिर अन्य छोटे-मोटे आयोजनों के लिए लॉन या वैंक्विट हॉल मोटे किराए पर नहीं लेना पड़ेगा. प्रदेश सरकार उन्हें उनके आसपास ही कम किराए पर इसे मौजूद कराएगी. नगर विकास विभाग इसके लिए आवश्यकता के आधार पर शादी-विवाह घर बनवाने जा रहा है. इस नयी योजना के लिए वित्तीय साल 2021-22 के बजट में टोकन मनी के रूप में 50 करोड़ रुपये की मांग की गई है.

आधुनिक सुविधाएं दी जाएंगी
बड़े शहरों में नगर निगमों ने अपने बजट से शादी-विवाह घर, कल्याण मंडप या फिर कम्यूनिटी हॉल बनवा रखे हैं, लेकिन छोटे शहरों खासकर नगर पालिका परिषद और नगर पंचायतों में ऐसी व्यवस्था नहीं है. यदि बने हैं तो वो भी बहुत ज्यादा पुराने हैं और इसमें बेहतर सुविधाएं नहीं हैं. नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन की अध्यक्षता में बजट में नयी योजनाओं को लेकर मीटिंग हुई थी. इसमें छोटे शहरों के लिए शादी-विवाह घर बनवाने के लिए बजटीय व्यवस्था पर सहमति बनी है. इसके आधार पर यह प्रस्ताव तैयार किया गया है. शादी-विवाह घर निकाय की जमीनों पर बनवाए जाएंगे. इसमें कुछ कमरों के साथ लॉन बनाया जाएगा, जिसे कम मूल्य पर किराए पर दिया जाएगा. नगर विकास मंत्री का मानना है कि इस योजना के आने के बाद लोगों को किसी भी तरह के आयोजन के लिए सस्ते में बेहतर सुविधाएं मिल सकेंगी.

प्रदूषण रोकने को बनेंगे धोबी घाट
इसी तरह शहरों मे बढ़ते हुए प्रदूषण को देखते हुए धोबी घाट भी बनवाने की योजना प्रारम्भ करने की तैयारी है. इसके लिए भी बजट में 50 करोड़ रुपये टोकन मनी के रूप में मांगी जाएगी. नगर विकास मंत्री चाहते हैं कि शहरों धोबी घाट बनवाए जाएं, जिससे कपड़े धुलने की वजह से नदियां प्रदूषित न हों. धेाबी घाट के पास पानी की व्यवस्था की जाएगी. यह पानी वहीं पर रहेगा, जिससे प्रदूषण पर रोकथाम लग सके.

Check Also

बिजली के पोल पर चढ़कर युवक ने किया हंगामा

सोनभद्र : जिले के कोतवाली क्षेत्र के रमपुरवा गांव में एक युवक खतरनाक तरीके से बिजली …