सर्दियों में बढ़ जाता है जोड़ों का दर्द? राहत के लिए अपनाएं ये तरीके

नई दिल्ली: जोड़ों के दर्द से जूझ रहे लोगों के लिए सर्दियों का मौसम मुश्किल पैदा कर सकता है. सर्दियों में ये समस्या और भी बढ़ जाती है. सर्दियों में शरीर में सूजन होनी शुरू हो जाती है इसके कई कारण हैं. सर्दियां आते ही बुजुर्गो में जोड़ों के दर्द (Joint Pain in Winters) की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है. जैसे-जैसे सर्दी बढ़ती है दर्द (Joint Pain) में भी वृद्धि होती है. ब्लड सर्कुलेशन (blood cerculation) सही ना होने के अलावा सर्दियों में रक्‍तवाहिनियां सिकुड़ जाती है, जिससे शरीर के हिस्सों में खून सही से पहुंच नहीं पाता. खून संचारित ना होने की वजह से बॉडी टेम्परेचर (body tempreture) कम होने लगता है, जिससे जोड़ सिकुड़ जाते हैं. इसलिए सर्दियों में जोड़ दर्द की समस्या अधिक सताती है. आइये जानते है इसके कुछ उपाय (remedies for joint pain).

किन लोगों को होती है अधिक समस्या?
ऑस्टियोआर्थराइटिस, रुमेटाइइड गठिया, पुराने जोड़ दर्द, पुरानी चोट या उम्रदराज लोगों में यह समस्या अधिक देखने को मिलती है. घुटनों के अलावा यह समस्या कूल्हे, कोहनी, कंधों और हाथों में भी हो सकती है.

घी का करें सेवन
गठिया को एक ऐसे रोग के रूप में देखा जाता है जिसमें वात की अधिकता हो जाती है जिससे पूरे शरीर में नमी कम होने लगती है और इस वजह से चिकनाई में कमी हो जाती है. घी, तिल या जैतून के तेल के उपयोग से सूजन में राहत मिलती है, जोड़ों में चिकनाई पैदा होती है और जोड़ों में जकड़न कम होती है.

 

योग मिटाए रोग
योग 100 रोगों की एक दवा है, जिससे आप सिर्फ जोड़ दर्द ही नहीं बल्कि कई बीमारियों को दूर रख सकते हैं. अगर आप मुश्किल आसन नहीं करना चाहते तो सूर्य नमस्कार, प्रणायाम, मेडिटेशन को अपने लाइफस्टाइल का हिस्सा बनाएं. इसके अलावा सुबह-शाम 25-30 मिनट सैर भी आपके जोड़ों को स्वस्थ रखेगी.

खानपान का रखें ध्यान
जोड़ों के दर्द से राहत के लिए उचित व संतुलित खानपान बेहद जरूरी है. करेला, बैंगन, नीम और सहजन के डंठल का सेवन इस रोग में अधिक से अधिक करें और साथ ही तमाम तरह के बेर और एवोकाडो भी जमकर खाएं.

सर्दियों की गुनगुनी धूप
सुबह 10-15 मिनट हल्दी गुनगुनी धूप में सैर या योग करें. इससे शरीर को विटामिन डी मिलेगा और ब्लड सर्कुलेशन भी सही रहेगा.

Check Also

ये पौधा है प्रकृति का तोहफा, इसके पत्ते हैं चमत्कारी, पहचानें और छोड़ें मत कभी

कहते है कि पेड़ पौधे लगाने से न केवल हमारे आस पास का वातावरण खुशनुमा …