सर्जिकल और कॉटन मास्क कोरोनावायरस को फिल्टर नहीं करते : शोध

सर्जिकल-कॉटन मास्क दोनों को मरीज की खांसी से सार्स-कोरोनावायरस (COVID-19) के प्रसार को रोकने में अप्रभावी पाया गया। दक्षिण कोरिया के सियोल के दो अस्पतालों में आयोजित एनल्स ऑफ इंटरनल मेडिसिन नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में पाया गया कि जब कोरोनावायरस रोगियों ने किसी भी प्रकार का मास्क लगाकर खांसा तो वायरस की बूंदें वातावरण में और मास्क की बाहरी सतह पर पहुंच गईं।

N-95 मास्क की कमी-
एन 95 और सर्जिकल मास्क की कमी के कारण विकल्प के तौर पर इन्फ्लूएंजा वायरस के प्रसार को रोकने के लिए कॉटन मास्क में लोगों ने रुचि दिखाई है। हालांकि, यह पता नहीं है कि कोरोनावायरस वाले मरीजों द्वारा पहने गए सर्जिकल या कॉटन मास्क पयार्वरण के प्रदूषण को रोकते हैं या नहीं।

दक्षिण कोरिया में उल्सान कॉलेज ऑफ मेडिसिन विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं ने कोरोनावायरस से संक्रमित चार रोगियों को मास्क के निम्नलिखित अनुक्रम पहनते समय पेट्री डिश पर प्रत्येक में पांच बार खांसी करने का निर्देश दिया। पहले बिना मास्क के, फिर सर्जिकल मास्क, उसके बाद कॉटन मास्क और फिर बिना मास्क के।

मास्क की सतहों पर निम्न अनुक्रम में स्वैब पाए गए : 
एक सर्जिकल मास्क की बाहरी सतह पर, एक सर्जिकल मास्क की आंतरिक सतह पर, कॉटन मास्क की बाहरी सतह पर और कॉटन मास्क की आंतरिक सतह पर। शोधकतार्ओं ने सार्स-कोव-2 को सभी सतहों पर पाया।

ये निष्कर्ष बताते हैं कि कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए फेस मास्क पहनने की सिफारिशें प्रभावी नहीं हो सकती हैं। शोधकतार्ओं ने कहा, ‘निष्कर्ष में, सर्जिकल और कॉटन मास्क दोनों ही एसएआरएस कोव-2 के प्रसार को रोकने के लिए अप्रभावी प्रतीत हो रहे हैं।’

Check Also

शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने पर मिलती हैं 8 चेतावनी, उसी समय से खाना-पीना बंद कर दें ये 10 चीजें

यूरिक एसिड शरीर में खून के जरिए किडनी तक पहुंचता है। ज्यादातर समय पेशाब के …