सरकारी सोसायटी,किसानों को 2 महीने पहले खरीदे गेंहूं के पैसे देने से किया इंकार

 

राजधानी भोपाल के नज़ीराबाद सोसायटी के मजीदगड गेहूं उपार्जन केंद्र पर 2 महीने पहले अपना 400 क्विंटल गेंहू बेचने वाले एक दर्जन किसानों को सोसायटी ने फरमान जारी किया है। किसानों को उनका गेंहू खराब बताकर अब दो महीने बाद सोसासिटी उनसे अपना गेंहू वापस लेने का बोल रही है। गेंहू बेचने के लिए कई कई दिन सोसायटी के बाहर खुले आसमान में बिताने वाले किसानों के लिए यह फरमान भारी पड़ता दिखाई दे रहा है।

दरअसल नज़ीरबाद की सरकारी सोसायटी के मजीदगड गेंहू खरीदी केंद्र पर क्षेत्र के एक दर्जन किसानों ने अप्रैल माह में 400 क्विंटल गेंहू बेचा था इनमें से एक किसान को छोड़कर सभी छोटे किसान हैं जिन्होंने 20 क्विंटल से कम गेंहू बेचा था। वहीं गेहूं खरीदते समय किसानों के गेंहू का सैंपल और नमी की जांच की गई थी जिसके बाद इनका गेंहू खरीदा गया था। अब 2 माह बीत जाने के बाद इनके पैसे देना तो दूर सोसायटी इनसे अपना गेंहू वापस ले जाने का बोल रही है। सोसायटी द्वारा जारी नोटिस में इनके गेंहू में नमी और कीड़ा होना बताया गया हैं। किसानों का कहना है कि जब हमने गेंहू दिया था तो सोसायटी वालो में जांच परख कर लिया था।

वहीं प्लास्टिक की बोरी थी मगर अब जो यह गेंहू लौटाने का बोल रहे वो जूट की बोरी है जिसपर हमारा टैग भी नहीं लगा है जबकि गेंहू खरीदने के बाद बोरी पर किसान का टैग लगा दिया जाता है। किसान परेशान है उनको कुछ समझ नहीं आ रहा है कि अब वो क्या करें। वही इस मामले में किसानों की हक़ की लड़ाई लड़ने वाला भारतीय किसान संघ उतर आया है भारतीय संघ के लोगों ने किसानों को साथ लेकर बैरसिया तहसीलदार को ज्ञापन सोपा है और इनको 7 दिन का समय दिया है अगर 7 दिन में किसानों की समस्या का समाधान नहीं होता है तो भारतीय किसान संघ आंदोलन करेगा।

Check Also

बढ़ने लगी हैं सियासी सरगर्मियां:अश्विनी ने कहा शिअद-बसपा गठबंधन का नहीं पड़ेगा भाजपा पर प्रभाव, सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारने की तैयारी

  भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अश्विनी शर्मा जोशी को नसीहत- मीडिया से पहले पार्टी में बात कर …