समाजवादी सत्ता के सूत्रधार से लेकर विवादों तक; अखिलेश ने बताया था बाहरी व्यक्ति, तो आजम के साथ तल्ख रहे थे रिश्ते

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

एक जमाने में यूपी की सत्ता के चाणक्य कहे जाने वाले अमर सिंह का शनिवार को सिंगापुर में निधन हो गया। भले ही वह अब इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन एक जमाने में यूपी की राजनीति के नीति निर्धारण में उनका दखल आज भी लोगों के बीच जाना जाता है। समाजवादी पार्टी के समर्थन से राज्यसभा जाने वाले अमर सिंह एक जमाने में सिर्फ सपा ही नहीं, बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश की सत्ता के सबसे बड़े प्रबंधक कहे जाते थे। सिंगापुर के अस्पताल में इलाज कराते समय अमर सिंह ने हाल ही में अपने एक ट्वीट किया था कि वह जिंदगी मौत से जूझ रहे हैं।

देश के नामी उद्योपतियों में गिने जाते थे अमर सिंह
90 के दशक में मुलायम सिंह के संपर्क में आने वाले अमर सिंह को देश के नामचीन उद्योगपतियों में गिना जाता था। पर उनकी असल पहचान राजनीति के किंग मेकर के रूप में होती थी। समाजवादी पार्टी के संरक्षक और पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव को सीएम की कुर्सी तक पहुंचाने वाले अमर सिंह 90 के दशक से ही यूपी के पावरफुल राजनीतिक चेहरों के रूप में जाने जाते थे। मुलायम सिंह यादव के सबसे करीबी रहे अमर सिंह एक समय समाजवादी पार्टी की नंबर दो पोजिशन के नेता रह चुके थे।

सपा से अलग होकर अमर सिंह ने बनाया था राष्ट्रीय लोकमंच
दो दशक तक पूर्वांचल की सियासत में बड़ी भूमिका निभाने वाले अमर को जब साल 2010 में समाजवादी पार्टी से निष्कासित किया गया तो उन्होंने पूर्वांचल को अलग राज्य घोषित करने की मांग के साथ अपनी पार्टी राष्ट्रीय लोकमंच का गठन किया। लोकमंच ने आजमगढ़ समेत पूर्वांचल के कई जिलों में बड़ी सभाएं भी की, लेकिन कोई खास असर नहीं दिखा सकी।

आजम खान और अमर सिंह के तल्ख रिश्ते
अमर सिंह के समाजवादी पार्टी से दूर होने की वजह एसपी के बड़े नेता आजम खान बने। आजम खान के बढ़ते रसूख ने अमर सिंह को समाजवादी राजनीति के हाशिये पर खड़ा किया। 2010 में आजम खान के बढ़ते प्रभाव के बीच ही मुलायम सिंह ने अमर सिंह को समाजवादी पार्टी से बाहर कर दिया। इसके बाद कुछ वक्त अमर राजनीति से दूर रहे। हालांकि, साल 2016 में जब अमर सिंह को फिर राज्यसभा का सांसद बनाने का मौका आया तो उनके निर्दलीय प्रत्याशी होने के बावजूद एसपी ने उनका समर्थन कर उन्हें राज्यसभा भेजा। हालांकि इसके बावजूद कई मौकों पर एसपी नेता आजम खान और राज्यसभा सांसद अमर सिंह एक दूसरे के खिलाफ तमाम तल्ख बयान देते रहे हैं।

अखिलेश यादव ने बताया था बाहरी व्यक्ति
मुलायम सिंह से अमर सिंह की इस करीबी के बावजूद एक वक्त वह भी आया, जब अमर सिंह पर मुलायम परिवार को तोड़ने का आरोप भी लगाया। मुलायम सिंह यादव के बेटे अखिलेश यादव ने ही अमर सिंह पर आरोप लगाया कि वह उनके परिवार को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। अखिलेश ने अमर सिंह को बाहरी व्यक्ति बताकर उनकी तमाम बार आलोचनाएं भी की। वहीं अमर भी कई मौकों पर अखिलेश यादव पर उनका अपमान करने का आरोप लगाते रहे हैं।

 

Check Also

केशी दानव का वध, गोपियों की रासलीला से लेकर जहां कालिया नाग का किया था मर्दन, वहां आज भी कृष्ण के निशान मौजूद

आज कृष्ण जन्माष्टमी है। कृष्ण को लीलाधर भी कहा जाता है। उन्होंने जन्म से लेकर …