सबक याद रहा तो नहीं लेगा रिश्वत:आरक्षक को और चाहिए थी 15 हजार रु. घूस; बदसलूकी की तो महिला ने गिरेबान पकड़ा, वीडियो वायरल होने पर निलंबित, इज्जत भी गई

 

अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत 1.50 लाख रुपए मिले थे महिला को, 40 हजार पहले ही ले चुका था।

रिश्वत में अंधे एक आरक्षक को महिला ने सबक सिखा दिया। महिला पहले से ही दबंगों से सताई हुई थी। उसे अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत 1.50 लाख रुपए मिले थे। एजेके थाने में पदस्थ आरक्षक परमानंद शर्मा को इसी राशि में से घूस चाहिए थी।

40 हजार वह पहले ही ले चुका था। 15 हजार रुपए और मांगने बैंक पहुंच गया। महिला ने कहा कि सिर्फ 5 हजार रुपए ही निकले हैं। बाकी बाद में दूंगी, इस पर आरक्षक ने महिला को गालियां दी और कहा कि तुझे देख लूंगा। इसके बाद महिला ने आरक्षक की गिरेबान पकड़ ली और उसे खींचकर सड़क पर ले आई। सड़क पर ही दोनों में तकरार होने लगी।

हाथ जोड़कर माफी मांगी
सड़क पर भीड़ जुट गई। कुछ लोगों ने इसका वीडियो बना लिया। रिश्वत की बात सामने आते ही लोग भी आक्रोशित हो गए। अपनी पोल खुलती देख आरक्षक ने हाथ जोड़े, लेकिन महिला ने नहीं छोड़ा। पुलिस भी आई और आरक्षक को ले गई और महिला को भी एजेके थाने में बुलाया। वीडियाे सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जैसे ही, यह मामला एसपी राजीव कुमार मिश्रा के संज्ञान में आया, तो उन्होंने आरक्षक को निलंबित कर दिया।

40 हजार रुपए ले चुका था महिला से
9 माह पहले खेत पर काम करते समय सोजनाचक निवासी गुलाब बाई सपेरा के साथ दबंगों ने मारपीट की थी। अनुसूचित जाति अत्याचार अधिनियम के तहत महिला को 1.50 लाख रुपए की राहत राशि 10 दिन पहले ही मंजूर हुई थी। जैसे ही, खाते में राशि आई एजेके थाने में पदस्थ आरक्षक परमानंद शर्मा उसके घर के चक्कर लगाने लगा। आरक्षक ने महिला से कहा कि यह पैसा उसने विभाग के अधिकारियों से मंजूर कराया है, इसलिए 55 हजार रुपए देना होंगे।

लगातार तीन दिन से ले रहा था रुपए
मंगलवार को 10 हजार रुपए लिए, बुधवार को भी 10 हजार और गुरुवार को 20 हजार रुपए आरक्षक ने महिला से झटक लिए थे। 15 हजार और मांग रहा था। शनिवार को बैंक दबाव बनाकर बुलाया था। तभी यह घटना हो गई।

 

Check Also

अब नए संसद भवन से ऐसे जुड़ेगा पीएम हाउस, भूमिगत सुरंग के जरिए होगी आवाजाही

एक प्लान तैयार किया जा रहा है , जिससे संसद भवन(Parliament House) को एक नया …