सतर्क रहें:फिर बढ़ रहा कोरोना; 15 दिनों में 82 नए मरीज मिले, 5 मौतें भी; जिला प्रशासन 17 स्थानों पर आज से बनाएगा जांच केंद्र

ये ठीक नहीं...शहर में बिना मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन लगभग बंद है। - Dainik Bhaskar

ये ठीक नहीं…शहर में बिना मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन लगभग बंद है।

राजधानी में कोरोना संक्रमण को लेकर बेफ्रिकी महंगी साबित हो रही है। पिछले कुछ दिनों में नए पॉजिटिव मरीजों की संख्या में फिर से इजाफा होने लगा है। फरवरी की पहली तारीख को जिले में 225 कोरोना पॉजिटिव मरीज थे।

5 फरवरी को यह आंकड़ा घटकर 175 पहुंच गया। हर दिन नए मरीजों की तुलना में ठीक होने वाले की संख्या अधिक थी। लेकिन 5 फरवरी से कोरोना पॉजिटिव की संख्या में इजाफा होने लगा, पर ठीक होने वाले संख्या कम होने लगी।

22 फरवरी तक के आंकड़े के अनुसार रांची में फिर से एक्टिव केस की संख्या 257 हो गई। वहीं, 22 दिनों में सात मरीजों की मौत भी हो चुकी है। रांची में अब तक कुल 244 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो गई। इसको लेकर अब जिला प्रशासन फिर से कोरोना जांच के लिए एक्टिव हुआ। शहर के 17 स्थानों में कोरोना की जांच के लिए फिर से कैंप मंगलवार से लगने शुरू होंगे। जांच के लिए वैसे क्षेत्रों को प्राथमिकता सूची में रखी गई है, जहां पिछले 45 दिनों में अधिक कोरोना मरीज मिले हैं।

यहां आज से होगी कोविड जांच
सदर अस्पताल, कांके सीएचसी, डोरंडा सीएचसी, रिसालदार बाबा सीएचसी, होटवार जेल, रातू सीएचसी, नामकुम सीएचसी, आंगनबाड़ी केंद्र हातमा, हटिया- चुटिया- जगन्नाथपुर- तुपुदाना- हेहल- एदलहातू और लेम बड़गाईं के शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, रांची रेलवे स्टेशन व बिरसा मुंडा एयरपोर्ट।

अधिक लोगों के संपर्क में आने वालों को जांच में प्राथमिकता

जिला प्रशासन वैसे लोग जो अधिक लोगों के संपर्क में आते हैं, उनकी जांच प्राथमिकता के आधार पर करेगा। इनमें ड्राइवर, बैंक फ्रंट डेस्क वर्कर, पोस्ट ऑफिस व कूरियर कर्मी, फूड डिलीवरी वर्कर, मीडिया कर्मी, होटल स्टॉफ, औद्योगिक क्षेत्र में कार्यरत श्रमिक, नगरपालिका कर्मी, एयरपोर्ट व रेलवे कर्मी, सब्जी विक्रेता, स्ट्रीट वेंडर, ट्रैफिक पुलिस के जवान, अर्धसैनिक बल व प्रशासन के कर्मी शामिल हैं।

रांची में अब तक 63% ने ही लिया वैक्सीन का फर्स्ट डोज

रांची में जहां कोरोना संक्रमण बढ़ रहा हैं, वहीं हेल्थ वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर में वैक्सीन का डोज लेने में उत्साह नजर नहीं आ रहा है। रांची में 18441 हेल्थ वर्कर और 29370 फ्रंटलाइन वर्कर का रजिस्ट्रेशन पहले डोज के लिए हुआ। इसमें 87 प्रतिशत हेल्थ वर्कर, जबकि 49 प्रतिशत फ्रंटलाइन ने ही वैक्सीन का पहला डोज लिया है। वहीं, सेकंड डोज लेने वालों में 1342 में से 670 यानी 50 प्रतिशत ने ही लिया है।

 

Check Also

कांग्रेस का राज्यव्यापी धरना:झारखंड के वित्त मंत्री ने कहा- 5 राज्यों में चुनाव के कारण पेट्रोल-डीजल के दाम घटाएगी केंद्र सरकार, महंगाई के खिलाफ जनाक्रोश का माहौल

डॉ. उरांव ने कहा-पेट्रोल-डीजल की कीमत को नियंत्रित करना केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है। पेट्रोल-डीजल …