शिक्षार्थी के लिए ध्यान का अभ्यास करने के लिए सर्वश्रेष्ठ आसन या आसन।

 

 

 

आज के समय में हर कोई अपने जीवन में व्यस्त है। प्रत्येक व्यक्ति को कुछ शांति और शांत मनोदशा की आवश्यकता होती है जो केवल मध्यस्थता द्वारा खींची जा सकती है। मेरे अनुसार, प्रत्येक और सभी को कम से कम एक घंटे के लिए मध्यस्थता का प्रयास करना चाहिए, जो उन्हें बहुत मदद कर सकता है। ध्यान लोगों के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो मन और आत्मा को शांत करने में मदद करता है। जैसा कि हम जानते हैं कि एक शांत दिमाग आपकी बीमारी को ठीक कर सकता है और आपको अपने मूल्यवान जीवन में खुश कर सकता है।  

 

 

प्राण धारणा वह मूल तकनीक है जिसका हम ध्यान में पालन करते हैं। संस्कृत में प्राण का अर्थ वह वायु है जिसे हम सांस लेते हैं। धर्म का अर्थ है जागरूकता। इसका मतलब है कि हवा जिसे हम जागरूकता और तकनीक से सांस लेते हैं। कुछ प्रक्रियाएं हैं जिनका उल्लेख नीचे दिया गया है कि उन्हें कैसे निष्पादित किया जाए।

ध्यान के लिए उपयुक्त सामान्य आसन पद्मासन है। इसे कमल मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है। यह प्रदर्शन करने के लिए बहुत सरल है और एक शांत मनोदशा और ऊर्जावान शरीर देता है। लेकिन अगर आप इस आसन या आसन को करने में सक्षम नहीं हैं तो बस अपने पैर को पार रखें। पीठ को अपनी आंखों के बिल्कुल सीधे होना चाहिए और अपने शरीर को पूरी तरह से आराम करना चाहिए आपके दिमाग में कोई तनाव नहीं होना चाहिए आपका माथा पूरी तरह से शांत होना चाहिए। इस आसन को करते समय आपको अपनी जांघ या घुटनों पर कोई दबाव नहीं डालना चाहिए। आपके चेहरे की मांसपेशियों को आराम देना चाहिए और आपका मुंह बंद होना चाहिए।

 

 

 

इसे करते समय आपका पूरा आसन आराम के मूड में होना चाहिए। और फिर धीरे-धीरे और शांति से हवा को अंदर लेने की अपनी प्रक्रिया शुरू करें। आपको अपनी सांस को कभी भी प्रवाह में नहीं रखना चाहिए। इस ध्यान को करते समय किसी भी शब्द का उच्चारण न करें। यह आपको आपके जीवन में खुश और पूरी तरह से आराम देगा। बस एक बुनियादी स्तर पर दैनिक अभ्यास करें। बेहतर परिणाम के लिए हमेशा अभ्यास में रहें। बस लाइन में रहें और मेडिटेशन करें।

Check Also

नाखून चबाने की आदत से हो सकती हैं ये खतरनाक बीमारियां!

आपने ऐसे कई लोगों को देखा होगा जो खाली समय में बैठे-बैठे अपने नाखूनों को …