शराब के साथ अब हथियार मिलना भी शुरू:पटना में शराब खोजने गई पुलिस को साथ में 7.65MM की 2 पिस्टल, 3 मैगजीन और 39 गोलियां मिल गईं

प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar

प्रतीकात्मक फोटो।

  • कुर्जी के शक्ति नगर इलाके का है मामला, चंदन कुमार के मकान में हुई छापेमारी

राजधानी में शराब के साथ हथियार और गोली भी बेची जाती है। अवैध तरीके से शराब के साथ-साथ हथियार और गोली मंगवाई जाती है। फिर उसे मुंह मांगी कीमत पर बेच दी जाती है। यह सनसनीखेज खुलासा तब हुआ, जब पटना पुलिस की टीम ने एक शराब तस्कर के ठिकाने पर छापेमारी की। पुलिस की टीम तो गई थी शराब की खेप पकड़ने पर वहां उसे साथ में हथियार की खेप भी मिल गई। यह मामला पटना के दीघा थाना के तहत कुर्जी के बालू पर इलाके के शक्ति नगर का है। रविवार को पुलिस ने इस मामले का खुलासा किया है। छापेमारी के दौरान तस्कर के ठिकाने से 141.75 लीटर शराब के साथ ही 7.65MM की दो पिस्टल, तीन मैगजीन और 39 गोलियां मिली। इसे देख कर छापेमारी के दौरान पुलिस अफसर और जवानों के भी होश उड़ गए थे। इस मामले में गौरीचक थाना के तहत कछुआरा के रावण टोला के रहने वाले 25 साल के जयमंगल सिंह को गिरफ्तार किया गया है।

पूरा कनेक्शन खंगालने में जुटी है पुलिस
शक्ति नगर में चंदन कुमार का मकान है। इसे जय मंगल सिंह ने किराए पर ले रखा है। किराए के इस मकान से जयमंगल शराब तस्करी का धंधा चला रहा था। साथ में हथियारों की तस्करी भी करता था। दीघा थाना को चंदन के मकान से शराब की तस्करी करने की इनपुट मिली थी। इसी इनपुट के आधार पर शनिवार की देर रात पुलिस टीम वहां पहुंची। घर के बाहर एक बाइक खड़ी थी। बाइक में एक बैग टंगा था जिसके अंदर से शराब की कुछ बोतलें बरामद हुई। इस खेप को किसी कस्टमर के पास पहुंचाने की तैयारी थी। इसी आधार पर जब मकान के अंदर तलाशी ली गई तो वहां हथियारों की बड़ी खेप मिल गई। शराब के खेप के बीच में ही पिस्टल और गोलियों को छिपाकर रखा गया था।

दो लोग हैं फरार
पुलिस की शुरुआती जांच और जय मंगल सिंह से हुए पूछताछ में पता चला कि शराब और हथियार तस्करी के इस गोरखधंधे में वो अकेला नहीं था। मकान का मालिक चंदन कुमार व जय मंगल का भाई आजाद सिंह बराबर के भागीदार हैं। तीनों मिलकर इस धंधे को चुपचाप तरीके से चला रहे थे। फिलहाल वो दोनों फरार हैं। अब पुलिस इनके नेटवर्क को खंगालने में जुटी है। शराब व हथियार का धंधा ये तीनों कब से कर रहे थे? हथियार और गोली कहां से और कब-कब मंगाए गए? इसकी सप्लाई किन लोगों के पास की गई? इस बारे में पूरा डिटेल पता किया जा रहा है।

 

Check Also

‘फांसी’ के खेल में मासूम की जान गई:कुंडी से लटकते कपड़े को गले में लपेट भाई-बहन को दिखा रही थी ऐसे लगाते हैं ‘फांसी’, कस गया फंदा

  छत की कुंडी से लटकते इसी कपड़े से झूल रही थी साक्षी। भागलपुर के …