वैज्ञानिकों का दावा, कोरोना के दौरान मरीजों के गंध और स्वाद महूसूस नहीं करने के लक्षण समय के साथ चले जाते हैं

लंदन: वैज्ञानिकों ने कोविड-19 संक्रमितों में गंध और स्वाद महसूस नहीं होने के लक्षणों का अध्ययन किया है और पता लगाया है कि करीब आधे रोगियों में ये लक्षण चार सप्ताह के बाद चले जाते हैं। ब्रिटेन के गाईज एंड सेंट थॉमस अस्पतालों के अनुसंधानकर्ताओं समेत वैज्ञानिकों ने 202 रोगियों पर सर्वे के आधार पर अध्ययन किया जिनमें 103 महिलाएं थीं और रोगियों की औसत उम्र 56 साल थी।

वैज्ञानिकों ने देखा कि सूंघ नहीं पाने और स्वाद नहीं ले पाने के लक्षण दिखने के चार सप्ताह बाद 55 रोगियों ने ये लक्षण पूरी तरह समाप्त होने की बात कही। पत्रिका जामा ओटोलैरिंगोलॉजी-हैड एंड नेक सर्जरी में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार 202 रोगियों में से 46 में एक महीने के अंदर सुधार दिखाई दिया और केवल 12 में लक्षण बने रहे या बिगड़ गये।

वैज्ञानिकों ने कहा कि लंबे समय तक गंध या स्वाद महसूस नहीं कर पाने का सार्स-सीओवी2 के संक्रमण से संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 में सूंघने या स्वाद संबंधी समस्या नाक में अवरोध से जुड़ी हो सकती है या इसका नाक में सूंघने का काम करने वाली झिल्ली (ओलफैक्ट्री म्यूकोसा) और इससे जुड़ी एक तंत्रिका कोशिका पर सीधा असर हो सकता है जिसकी वजह से लक्षण होते हैं। अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि अधिकतर मामलों में समय के साथ स्वाद या गंध महसूस नहीं कर पाने के लक्षणों में सुधार होता है।

Check Also

गर्लफ्रेंड को के साथ डेट पर जाते वक्त कभी न करें ऐसी गलतियां, खराब पड़ता है इम्प्रेशन

अक्सर लड़के डेट पर जाते समय कुछ ज्यादा ही एक्साइटेड रहते हैं इसलिए लोग अपनी इसकी …