विचाराधीन बंदियों के मामले पर हुई सुनवाई, दो कैदी को किया रिहा

 

न्यायिक पदाधिकारी अपने आवासीय कार्यालय से वीडियो कांफ्रेंस से जुड़े थे। प्रतीकात्मक फोटो।

  • रांची सिविल कोर्ट के सीजेएम फहीम किरमानी और एसडीजेएम की कोर्ट से एक-एक बंदी को रिहा किया

रांची में रविवार को जेल अदालत का आयोजन किया गया। झालसा के कार्यपालक अध्यक्ष और झारखंड हाईकोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस एचसी मिश्रा के निर्देश पर वर्चुअल जेल अदालत का आयोजन किया गया। इसमें रांची सिविल कोर्ट के सीजेएम फहीम किरमानी की कोर्ट से एक और एसडीजेएम की कोर्ट से एक बदी को रिहा किया गया। वीर लोहरा और कृष्णा बाउरी को रिहा किया गया।

कैदियों से की गई बात
ऑनलाइन जेल अदालत के दौरान सभी न्यायिक पदाधिकारी अपने आवासीय कार्यालय से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार होटवार रांची से जुड़े। अपने विचाराधीन बंदियों से बात कर मामले की सुनवाई की। इसमें मुख्य रूप से सीजेएम सह प्रभारी सचिव डालसा फहीम किरमानी,ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट अनुज कुमार, जेएम अंकिता शर्मा और जेल अधीक्षक हामिद अख्तर मौजूद थे।

मौके पर डालसा के द्वारा जेल के पैरा लीगल वालंटियर को कोरोना वायरस के संबंध में जागरूक भी किया गया। साथ ही साथ उनको यह निर्देशित किया गया कि जेल के सभी वार्डों में जाकर कैदियों को कोरोना वायरस के संबंध में जानकारी दें एवं उसके बचाव के बारे में बताएं।

 

Check Also

धनबाद में 25 फीट ऊंचे पुल से गिरा हाइवा; एक व्यक्ति की दबकर मौत, ड्राइवर जख्मी

जेसीबी की मदद से पुल के नीचे गिरे हाइवा को सीधा किया गया। करीब दो …