वास्तु के अनुसार करें अपने घरके पास गार्डन का निर्माण

प्यारे से पेड़, पौधे, सुंदर फूल भला किसे अच्छे नहीं लगते? लेकिन ज्यादातर लोग इस बारे में बस सोचते ही ज्यादा हैं करते कुछ नहीं हैं। हर घर में थोड़ी-बहुत जगह तो गार्डनिंग के लिए छोड़ी जाती है, लेकिन अकसर यह जगह ऐसे ही बिना उपयोग के पड़ी रहती है।
# गार्डन बनाने के लिए जरूरी है कि सबसे पहले आप उसकी जगह तय कर लें। यदि आप फ्रंट में गार्डन बनाना चाहते हैं तो जगह को नाप लीजिए। कितने हिस्से में गार्डन रहेगा? कितना पाथ के लिए छोड़ना है? अब सीजन के के हिसाब से अपने मन पसंद फूल चुन लीजिए। गार्डन को अपनी इच्छा के अनुसार 2 या 3 भागों में बांट दीजिए। अब इन भाग में अलग-अलग तरह के फूल लगाइए जो बहुत सुंदर लगेंगे।
# कभी भी बीजों को यूं ही मत बिखेरिए बल्कि इन्हें ठीक से लगाइए, ताकि बड़े होने पर पौधे अजीब न लगे।हमेशा दो पौधों में कुछ दूरियां रहने दें। इससे पौधों की जड़ों को फैलने में आसानी होती है। आप जब भी गार्डन  गार्डन बनाए अपने घर के हिसाब से बनाए।
# पेड़-पौधे ध्वनि और विकिरणों को भी प्रभावशाली ढंग से अवशोषित कर लेते हैं। चढ़ने वाली बेलें जिन्हें ‘क्लाइमबर्स कहा जाता है जैसे, मनी प्लांट को कोने में लगाकर उस जगह की उदासीनता को कम किया जा सकता है घर के दक्षिण-पूर्व कोने को धन और समृद्धि का कोना माना जाता है, इसलिए यहां चौड़े पत्तियों वाले पौधे लगाना चाहिए।
# मुरझा गए या सूख गए पौधों को तुरंत हटा देना चाहिए। घर के सामने वाले हिस्से में कांटेदार या नुकीले पत्तों वाले पौधे नहीं लगाना चाहिए। इन कुछ बातों पर अमल कर के आप भी फेंग शुई का फायदा उठा सकते हैं।

Check Also

Bhaum Pradosh Vrat 2021: भौम प्रदोष व्रत आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और व्रत कथा

आज ज्येष्ठ मास शुक्ल पक्ष की उदया तिथि द्वादशी और मंगलवार का दिन है। प्रत्येक …