रेमडेसिविर के तीस हजार इंजेक्शन के खराब होने का खतरा

रायपुर : कोरोना पीक के दौरान 35 हजार रुपए में बिकने वाले रेमडेसिविर के तीस हजार इंजेक्शन के अब खराब होने का खतरा बढ़ गया है। केस कम होने और डब्लूूएचओ की सिफारिश पर इसे गंभीर मरीजों के उपचार की गाइडलाइन से बाहर किए जाने के बाद इंजेक्शन डंप हो गए हैं। अप्रैल में इसकी किल्लत इतनी बढ़ गई थी कि अस्पतालों तक इंजेक्शन पहुंचाने का जिम्मा औषधि विभाग को लेना पड़ गया था।

कोरोना की पहली लहर के दौरान इसकी खपत कम थी, मगर दूसरी लहर में केस बढ़े और रेमडेसिविर की डिमांड इतनी बढ़ गई कि बाजार से स्टाक रातों रात गायब हो गया था। इसके बाद इंजेक्शन की कालाबाजारी शुरू हुई और एक हजार से कम में आने वाला रेमडेसिविर का एक इंजेक्शन 35 हजार तक में बिकने लगा था। जरूरतमंद मरीजों तक इसे पहुंचाने के लिए राज्य शासन के हस्तक्षेप के बाद इसकी सप्लाई अस्पतालों तक की गई और निजी अस्पतालों में भी इसके नाम पर जमकर वसूली की गई।

औषधि विभाग द्वारा कंपनियों से सीधी सप्लाई लेकर इसका वितरण जरूरत के हिसाब से निजी और सरकारी अस्पतालों को किया जा रहा था, इसी दौरान कोरोना के केस कम हो गए। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इस इंजेक्शन को कोरोना मरीजों के उपचार की दवा की गाइडलाइन से हटा दिया था। इसके बाद इसकी मांग खत्म हो गई और खरीदे गए रेमडेसिविर के इंजेक्शन डंप हो गए।

Check Also

उत्तराखंड में पांच लाख से ज्यादा विद्यार्थियों को मुफ्त ड्रेस का रास्ता साफ

देहरादून : उत्तराखंड में पांच लाख से ज्यादा स्कूली बच्चों को मुफ्त ड्रेस और किताबें …