राहुल गांधी का मोदी सरकार से सवाल, अगर टीके सबके लिए मुफ्त हैं तो निजी अस्पताल पैसा क्यों लेंगे

कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सभी नागरिकों के वैक्सीनेशन के लिए राज्यों को मुफ्त टीका मुहैया कराने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद सोमवार को सवाल किया कि अगर टीके सभी के लिए मुफ्त हैं तो फिर निजी अस्पतालों को पैसा क्यों लेना चाहिए। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘एक साधारण सवाल: अगर टीके सभी के लिए मुफ्त हैं तो फिर निजी अस्पतालों को पैसे क्यों लेने चाहिए।’’

वहीं कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा पर कहा कि यह देर आए, लेकिन पूरी तरह दुरुस्त नहीं आए की तरह है क्योंकि मुफ्त वैक्सीनेशन की मांग को सरकार ने आंशिक रूप से स्वीकार किया है। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता ने यह आरोप भी लगाया कि प्रधानमंत्री ने देश में पहले के वैक्सीनेशन के कार्यक्रमों के बारे में टिप्पणी करके अतीत की चुनी हुई सरकारों और वैज्ञानिकों का अपमान किया है।

 

रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘‘मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने पिछले कई महीनों में बार बार यह मांग रखी कि 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को मुफ्त टीका लगना चाहिए, लेकिन मोदी सरकार ने इसे इनकार कर दिया। फिर सुप्रीम कोर्ट ने मोदी जी और उनकी सरकार को कटघरे में खड़ा किया।’’ कांग्रेस महासचिव ने कहा, ‘‘फिलहाल खुशी है कि हर नागरिक को मुफ्त टीका मुहैया कराने की मांग सरकार ने आंशिक रूप से मान ली है। प्रधानमंत्री आज भी अपने मुंह मियां मिट्ठू बने। देर आए, लेकिन पूरी तरह दुरुस्त नहीं आए।’’

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि 18 साल से अधिक उम्र के सभी नागरिकों के वैक्सीनेशन के लिए राज्यों को 21 जून से मुफ्त टीका उपलब्ध कराया जाएगा और आने वाले दिनों में टीकों की आपूर्ति में बड़े पैमाने पर बढ़ोतरी की जाएगी। उन्होंने राष्ट्र के नाम संबोधन में यह ऐलान भी किया कि कुल टीके में 75 प्रतिशत की खरीद सरकार करेगी और 25 फीसदी अब भी निजी अस्पतालों को मिलेंगे, लेकिन वे प्रति खुराक 150 रुपये से ज्यादा सेवा शुल्क नहीं ले सकेंगे।

Check Also

60 वर्षीय महिला से रेप की जांच एसआईटी से कराने की मांग : पश्चिम बंगाल

   पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हिंसा के दौरान एक बलात्कार की पीड़ित महिला ने …