“मैंने देखे हैं मनी लांड्रिंग कानून के उल्लंघन के साक्ष्य”

अडाणी समूह की कंपनियों में हिस्सेदारी रखने वाले कुछ एफपीआई खातों को राष्ट्रीय प्रतिभूति डिपॉजिटरी लिमिटेड (एनएनडीएल) द्वारा जब्त करने की खबर है। जिसके बाद भाजपा से राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने भी अडानी समूह के संस्थापक गौतम अडाणी पर निशाना साधा है। स्वामी ने एक ट्वीट के जरिये कहा कि मैंने मनी लांड्रिंग कानून के उल्लंघन के साक्ष्य देखे हैं।

स्वामी ने अडानी समूह से जुड़ा मामला सामने आने के बाद एक ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने लिखा, ‘करतब दिखाने वाले कलाकार अडाणी द्वारा मनी लांड्रिंग कानून के उल्लंघन के साक्ष्य मैंने देखे हैं। यह मामला प्रवर्तन निदेशालय में मुकदमा चलाने के लिए है। मामला बिगड़ न जाए इसके लिए प्रधानमंत्री मोदी को प्रवर्तन निदेशालय के उच्च अधिकारियों का बैकग्राउंड चैक करना चाहिए।’

गोल पोस्ट बदलने से सावधान रहे-स्वामी

हालांकि जब एक ट्विटर यूजर ने कहा कि अडानी ग्रुप ने आरोपों से इनकार किया है तो स्वामी ने जवाब दिया कि मैं उस मुद्दे पर नहीं बल्कि मनी लांड्रिग पर हूं। इसलिए गोल पोस्ट बदलने से सावधान रहें।

अडाणी समूह ने खबर को बताया गलत

अडानी समूह की कंपनियों के एफपीआई खातों को एनएसडीएल द्वारा जब्त करने की खबर के बाद इन कंपनियों के शेयरों में सोमवार सुबह 25 फीसद की भारी गिरावट देखी गई। हालांकि अडानी समूह ने कहा है कि उनके पास लिखित जानकारी है कि उसके शीर्ष शेयरधारकों में शामिल तीन विदेशी फंडों के खातों को जब्त नहीं किया गया है। साथ ही उन्होंने जब्ती की खबर को गलत और भ्रामक बताया।

शेयर में जबरदस्त गिरावट

इस खबर के आते ही शेयर बाजार में अडाणी समूह की कंपनियों के शेयर में जबरदस्त गिरावट दर्ज की गई। अडाणी एंटरप्राइजेज बीएसई पर 24.99 फीसदी की गिरावट के साथ 1,201.10 रुपये पर, अडाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन 18.75 फीसदी की गिरावट के साथ 681.50 रुपये पर कारोबार कर रहा था। इसके अलावा अडाणी ग्रीन एनर्जी पांच प्रतिशत गिरकर 1,165.35 रुपये पर, अडाणी टोटल गैस पांच प्रतिशत गिरकर के साथ 1,544.55 रुपये पर, अडाणी ट्रांसमिशन पांच प्रतिशत गिरकर 1,517.25 रुपये पर और अडाणी पावर 4.99 प्रतिशत गिरकर 140.90 रुपये पर आ गए। इन सभी शेयरों ने अपनी निचली सर्किट सीमा को पार कर लिया।

पहले भी निशाना साध चुके स्वामी

इससे पूर्व करीब छह महीने पहले सुब्रह्मण्यम स्वामी ने गौतम अडानी को लेकर एक ट्वीट किया था और जिसमें लिखा था कि बैंकों का उन पर करीब 4.5 लाख करोड़ रुपए का एनपीए है। यदि मैं गलत हूं तो उसे सुधारें। फिर भी 2016 से उनकी संपत्ति हर दो साल में दोगुना हो रही है। वह बैंकों का भुगतान क्यों नहीं कर रहे हैं?

Check Also

ओडिशा CM पटनायक की लोगों से अपील-कोरोना नियमों को मानें

भुवनेश्वर:  ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर के बारे …