‘मुसलमान बच्चे नहीं’, RSS प्रमुख के इस बयान पर औवेसी ने किया तीखा हमला

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर अभी भी राजनीति कम नहीं हुई है। केंद्र सरकार अक्सर इस मुद्दे को उठाकर लोगों के सामने ये दावा करती है कि इस कानून से किसी को भी कोई खतरा नहीं है। इस मामले को एक बार फिर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने उठाया है। उन्होंने लोगों को भरोसा दिलाया कि इस कानून से किसी को खतरा नहीं है। भागवत ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में मुस्लिम समुदाय को भ्रमित करने की साजिश की गई है।

 

भागवत के इस बयान पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (AIMIM) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए भागवत पर हमला बोला है। औवेसी कहते हैं, हमलोग बच्चे नहीं हैं कि हमें कोई ‘भटका’ दे। औवेसी ने कहा, बीजेपी ने यह नहीं बताया कि एक साथ CAA+NRC का मतलब क्या है? अगर यह सिर्फ मुस्लिमों के लिए नहीं है तो सभी कानून से धर्म शब्द हटा दे। औवेसी ने कहा, जान लीजिए हमलोग बार-बार प्रदर्शन करते रहेंगे, जबतक कानून में हमें खुद को भारतीय साबित करने की बात रहेगी। हम उस तरह के सभी कानून का विरोध करेंगे, जिसमें लोगों की नागरिकता धर्म के आधार पर तय की जाएगी।

 

औवेसी ने सिर्फ सीएए को लेकर ही नहीं बल्कि कांग्रेस और राजद को भी निशाना बनाया। उन्होंने कहा, मैं कांग्रेस, आरजेडी और उनके क्लोन से भी यह स्पष्ट कर दूं कि सीएए के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के दौरान आपकी चुप्पी लोग भूलेंगे नहीं।  औवेसी ने कहा, जब बीजेपी नेता सीमांचल के लोगों को घुसपैठिए करार दे रहे थे तो आरजेडी और कांग्रेस ने अपना मुंह बंद कर रखा था। उन्होंने कुछ नहीं बोला। बता दें कि, भागवत ने नागपुर में दशहरे के कार्यक्रम के दौरान सीएए पर लोगों को भरोसा दिलाया था जिसका औवेसी ने करारा जवाब दिया।

Check Also

प्रदीप वर्मा, उसकी पत्नी और मां के 6 बैंक के 12 खाते कराए सीज, बड़े ट्रांजेक्शन पर उलझा ईओडब्ल्यू

  मंगलवार को ईओडब्ल्यू की टीमों ने खाते तो सीज करा दिए, पर लॉकर होने …