मुफ्त मिलेगी कोरोना की वैक्सीन:रिलायंस, इंफोसिस सहित अन्य ने कर्मचारियों और उनके परिवार के वैक्सीनेशन का खर्च उठाने का लिया फैसला, लाखों लोगों को होगा फायदा

दुनियाभर में कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई जारी है। भारत में भी वैक्सीनेशन की शुरुआत 16 जनवरी को हो चुकी है, जिसका दूसरा फेज 1 मार्च से शुरु हुआ है। इसमें 60 साल से अधिक उम्र वाले नागरिकों को वैक्सीन लगाया जा रहा है। खास बात यह है कि अब कॉर्पोरेट वर्ल्ड की कुछ कंपनियां अपने कर्मचारियों और उनके परिवारों को फ्री वैक्सीन देने का ऐलान कर रही हैं।

कॉर्पोरेट वर्ल्ड में भी कोरोना के खिलाफ लड़ाई तेज
देश की बड़ी कंपनियों में शुमार रिलायंस इंडस्ट्रीज, इंफोसिस, एसेंचर और कैपजेमिनी शामिल हैं, जो अपने योग्य कर्मचारियों और उनके परिजनों को फ्री वैक्सीन मुहैया करने का ऐलान कर रही हैं। इसके अलावा महिंद्रा ग्रुप, ITC जैसी बड़ी कंपनियों ने भी अपने कर्मचारियों के लिए वैक्सीन को खरीदना शुरू कर दिया है।

कर्मचारियों और उनके परिजनों के वैक्सीनेशन का खर्च वहन करने का फैसला
रिलायंस इंडस्ट्रीज की डायरेक्टर नीता अंबानी ने अपने कर्मचारियों को लिखे एक लेटर में कहा है कि सभी कर्मचारियों और उनके परिवारों के वैक्सीनेशन का पूरा खर्च कंपनी वहन करेगी। इसके लिए योग्य कर्मचारी, सरकार के वैक्सीनेशन प्रोग्राम में जल्द रजिस्ट्रेशन करवाने का आग्रह भी किया। इंफोसिस के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (COO) प्रवीण राव और एसेंचर इंडिया की चेयरपर्सन रेखा एम मेनन ने भी अपने कर्मचारियों के लिए यही बात कही।

लाखों कर्मचारियों को होगा फायदा
देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज के कुल डायरेक्ट और इन डायरेक्ट कर्मचारियों की संख्या 6 लाख है, जबकि इनके परिवारों को मिला दें तो यह संख्या 19 लाख हो जाती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मार्च 2020 तक इंफोसिस के साथ करीब 2.42 लाख, एसेंचर के करीब 2 लाख कर्मचारी हैं, जबकि दुनियाभर में कंपनी के करीब 5 लाख। भारत में फ्रांसीसी IT कंपनी कैपजेमिनी (Capgemini) के कर्मचारियों की संख्या करीब 1.2 लाख है।
देश में वैक्सीनेशन का दूसरा फेज जारी
भारत में 1 मार्च से कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा फेज़ शुरू हुआ है। देश में करीब 10 हजार सरकारी सेंटर्स पर वैक्सीन मुफ्त मिल रही है, जबकि प्राइवेट अस्पतालों में 250 रुपए प्रति डोज के हिसाब से मिल रही है। covid19india.org के मुताबिक भारत में अब तक कोरोना के कुल 1.11 करोड़ से ज्यादा मामले आ चुके हैं, जिसमें से 1.08 करोड़ लोग रिकवर कर चुके हैं। एक्टिव मामलों की संख्या 1.73 लाख है, जबकि 1.57 लाख लोगों ने महामारी में अपनी जान गवां चुके हैं।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

लगातार 3 दिन की बढ़त से सेंसेक्स 48,800 के पार बंद

मुंबई : शेयर बाजार में शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन बढ़त रही। सेंसेक्स 28 पॉइंट …