मीरजापुर: गंगा नदी में घाट 7 महिलाएं डूबी 5 को बचाया गया, 2 की तलाश जारी

मीरजापुर: जनपद के विंध्याचल में गंगा स्नान के दौरान शादी समारोह में भाग लेने आई सात महिलाएं डूब गई। जिनमें बालिकाएं भी शामिल थी। आसपास मौजूद मछुआरों की मदद से 5 को बचा लिया गया है, जबकि दो की तलाश जारी है। घटना के बाद मौके पर जा हड़कंप मच गया था वहीं सूचना होने पर पुलिस भी पहुंच कर गोताखोरों की मदद से डूबी हुई महिलाओं की तलाश में जुटी हुई है। यह हादसा विंध्याचल कोतवाली क्षेत्र के गोपालपुर मड़गुड़ा घाट पर  गंगा स्नान के दौरान होना बताया जा रहा है। डूब रही महिलाओं में से 5 को सकुशल बचा लिया गया है जबकि अर्चना देवी 23 वर्ष पत्नी मनोहर निवासिनी मझियार थाना कोतवाली देहात मीरजापुर व अन्तिमा 13 वर्ष पुत्री राजधर बिन्द निवासिनी अनिरूद्धपुर पूरबपट्टी थाना चील्ह मीरजापुर डूब गई है।

मौके पर प्रभारी निरीक्षक विन्ध्याचल मय पुलिस बल मौजूद है स्थानीय गोताखोरो-नाविकों की मदद से सभी की तलाश की जा रही है। जानकारी के अनुसार गोपालपुर गांव केेे बिंद बस्ती निवासी एक व्यक्ति के यहां शादी समारोह में डूबने वाली महिलाएं और बालिकाएं भाग लेने आई हुई थी। गुरुवाार को सभी महिलाएं जिनमें बालिकाएं भी शामिल थी गांव के समीप गंगा नदी में स्नान के लिए आई हुई थी जहां नहाते समय सभी गहरे पानी में जाकर डूबने लगी थी। जिन्हें पानी मेंं डूबता हुआ देखकर आसपास मछली मार रहेे मछुआरों और नाविकों ने तत्परता बरतते हुए गंगा नदी में कूदकर 5 को तो किसी प्रकार बचा लिया है, लेकिन दो कि तलाश की जा रही है। विंध्याचल कोतवाली पुलिस तथा अष्टभुजा पुलिस चौकी पुलिस स्थानीय नाविकों व गोताखोरो की मदद से डूबी हुई महिलाओं की तलाश में जुटी हुई है।

गंगा में डूबने के बचाव के उपाय

…विख्यात आदिशक्ति विंध्याचल देवी धाम क्षेत्र में प्रतिवर्ष गंगा नदी में स्नान के दौरान अक्सर दर्शनार्थी तो कभी अन्य लोग हादसे का शिकार होते आए हैं, लेकिन इतने के बावजूद अभी तक ना तो यहां जल पुलिस की तैनाती की गई है और ना ही गंगा नदी में डूबने वालों के बचाव की मुकम्मल व्यवस्था जिसका नतीजा यह होता है कि अक्सर यहां कोई न कोई गंगा नदी में डूबता रहता है। अब तक डूबने से कई लोगों के परिवार भी गुजर चुके हैं बावजूद इसके बचाव के कोई ठोस उपाय नहीं हो सके है।

*रात को घर से निकली बारात, सुबह दो लोगो के डूबने से पसरा मातम

….मीरजापुर। विन्ध्याचल थाना क्षेत्र के मड़गुड़ा गांव में शादी में सम्मिलित होने आए रिस्तेदार गांव के ही मल्लाहिया घाट के पास नहाते समय सात लोग डूबने लगे। जिसमे से 5 को बचा लिया गया और अर्चना बिंद 23 वर्ष पत्नी मनोहर, मजिहार गांव थाना देहात कोतवाली और अंतिमा 13 वर्ष पुत्री राजधर,अनिरुद्धपुर ,पूरब पट्टी थाना चील्ह डूब गए पुलिस ने गोताखोरों को लगा के लापता दोनों को खोजने में लगी है  मौके पर भारी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

जानकारी के अनुसार मडगुडा गांव के मन्ना बिंद के पुत्र महेश बिंद की शादी बुधवार को थी बुधवार को रात बारात जिगना थाना के बिहसडा गांव के लिए निकली, मन्ना बिंद के घर रात भर नाच गाना हुआ सुबह होते ही करीब 8 बजे करीब 25 की संख्या में आये रिश्तेदार बगल में मल्लाहिया घाट के पास नहाने चले गए, वहां सभी लोग नहा रहे थे कि अचानक कुछ महिलाएं डूबने लगी सब पानी के बाहर आ गए और डूब रहे लोगों को बचाने में कुछ लोग पानी में कूद गए जिसमे कुल सात लोग डूबने लगे।

मौके पर मौजूद महिलाओं और लड़कियों ने साड़ी फेक के 5 को बाहर निकाल लिया, लेकिन 23 वर्षीय अर्चना व 13 वर्षीय अंतिमा बाहर नहीं आ पाई। मौके पर भारी संख्या में ग्रामीण इकट्ठा हुए और थाना विन्ध्याचल को सूचना दिया गया। थानाध्यक्ष शेषधर पांडेय, अष्टभुजा चौकी इंचार्ज नवनीत चौरसिया मौके पर पहुंच कर गोताखोरों के माध्यम से लापता दोनों को तलाश जारी है।बताया जाता है कि अर्चना बिंद और बबिता बिंद यह दोनों बहन अपने तीसरी बहन रेखा के देवर की शादी में आई थी। ये तीनो बहन डूब रही थी वही अंतिमा जो अपने बड़े भाई देवनारायण के साथ उसके ससुराल शादी में सरीख होने आई थी। वही अन्य रिश्तेदारों में अंशिका 15 वर्ष, सुनीता बिंद 25 वर्ष, पूजा बिंद 17 वर्ष भी डूब रही थी जिनमे से बबिता, रेखा, पूजा, सुनीता, अंशिका, को मौके पर मौजूद महिलाओं साड़ी फेंक के बचा लिया वही अर्चना, अंतिमा लापता है।

Check Also

राम मंदिर ट्रस्ट पर अयोध्या में जमीन घोटाले का आरोप, टीएमसी ने की CBI और ED से जांच की मांग

  अयोध्या में राम मंदिर ट्रस्ट पर गलत तरीके से डील कर मंदिर परियोजना के …