मास्क न पहनने पर हो रहे चालान पर एसपी से सांसद मेनका गांधी बोलीं- वो आदमी मरे हमारी बला से, पैसों की न हो वसूली

वैश्विक महामारी कोरोनावायरस का संक्रमण रोकने के लिए उत्तर प्रदेश में मास्क को अनिवार्य किया गया है। न पहनने पर 1000 रुपए जुर्माना तय है। लेकिन सोमवार को सुल्तानपुर में भाजपा सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने सार्वजनिक मंच से पुलिस अधीक्षक को स्पष्ट शब्दों में कहा कि, ‘ये पूरे देश में है, मुझे मालूम है उनका काम है नियम रखना, लेकिन अगर मास्क नहीं है तो नहीं है। वो आदमी मरे हमारी बला से। लेकिन ऊपर पैसों की वसूली ना हो।’

मेनका गांधी ने अधिकारियों से कहा कि ये बीमारी कब तक रहेगी मुझे नहीं मालूम। हम लोग आप लोगों ने बहुत अच्छी तरह से इसे संभाला है। लेकिन इतना संभालने के बावजूद फैलेगी सो फैलेगी। उन्होंने ये भी कहा कि कोविड पॉजिटिव को घर में सीमित करें, मुख्यमंत्री ने भी कहा है। आज के बाद ऐसा ही होगा। सारी दुकानें बंद हैं, छोटे व्यापारी मर गए हैं इस समय। आप अपने पुलिस को बोलिए और शहर की बैरिकेडिंग हटवा दीजिए।

मीडिया से बात करते हुए मेनका गांधी ने कहा कि मैं अब हर 20 दिन पर आऊंगी और दो-दो विभाग को देखूंगी कि उन्होंने क्या किया? उन्होंने लॉकडाउन का हवाला देते हुए कहा कि मैं इस तरह लोगों से जुड़ी रही कि जो-जो लोग बाहर थे उनका ख्याल रखा। जो-जो लोग वापस आ रहे थे उन सबको खाना पहुंचाना, किट पहुंचाना ये सब कराया। मैं कभी एक मिनट के लिए भी सुल्तानपुर से दूर नहीं थी। रोज-रोज मुझे लोग मुझे फोन करते हैं खासकर बिजली की उसको दूर करवाया।

बता दें कि मेनका गांधी 9 अगस्त रविवार को पहली बार सड़क मार्ग से दिल्ली से यहां पहुंची हैं। आज निगरानी समिति की बैठक में उन्होंने अध्यक्षता की कल सुबह वो सड़क मार्ग से दिल्ली वापस जाएंगी। इससे पहले वो तीन दिवसीय दौरे पर 2 मार्च को सुल्तानपुर आई थीं।

 

Check Also

गाजियाबादः थाने में हुई मारपीट के आरोपी की मौत, पुलिस पर उठे सवाल, कौन देगा जवाब ?

गाजियाबाद : गाजियाबाद पुलिस क्या पुलिस स्टेशन में लाने के बाद लोगों को करती है प्रताड़ित, …