Home / विदेश / मामल्लापुरम में आज फिर मिलेंगे मोदी-शी,सीमा विवाद पर कर सकते हैं बात

मामल्लापुरम में आज फिर मिलेंगे मोदी-शी,सीमा विवाद पर कर सकते हैं बात

मामल्लापुरम : कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने के बाद चीन से संबंधों में उतार-चढ़ाव के बीच हो रही जिनपिंग की यह यात्रा काफी अहम है। भारत कश्मीर को लेकर कोई बात नहीं करना चाहता। चर्चा हुई तो भारत पाक के कब्जे वाले कश्मीर पर ही बात करेगा। दोनों के बीच एक नवंबर को होने वाले क्षेत्रीय आर्थिक मुक्त व्यापार समझौते (आरसीईपी ), 5जी तकनीक पर बात हो सकती है। भारत हुआवे के लिए 5जी तकनीक के परीक्षण को तैयार हो सकता है। हालांकि इस मुलाकात के दौरान कोई करार नहीं होना है।

आतंक के खिलाफ मिलकर लड़ेंगे भारत-चीन
इससे पहले एशिया की दो महाशक्तियों के शीर्ष नेताओं की तमिलनाडु के ऐतिहासिक शहर मामल्लापुरम (महाबलीपुरम) में शुक्रवार को महामुलाकात हुई। पीएम नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच पहले से तय अनौपचारिक मुलाकात में गर्मजोशी और आपसी विश्वास साफ दिखा। डिनर के दौरान करीब ढाई घंटे की वन-टू-वन बातचीत में दोनों नेताओं ने बढ़ते आतंकवाद और कट्टरता को बड़ी चुनौती मानते हुए इसके खिलाफ साथ मिलकर काम करने पर सहमति जताई। इस दौरान दोनों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती देने तथा व्यापार सहित कई मुद्दों पर चर्चा हुई। अब सबकी निगाह आज होने वाली शिखर वार्ता पर है। जिसमें मुख्य फोकस सीमा विवाद सहित विवादित मुद्दों से आगे बढऩे पर होगा।

जिनपिंग ने उठाया दक्षिण भारतीय व्यंजन का लुत्फ
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के दूसरे अनौपचारिक सम्मेलन के दौरान वेशभूषा के साथ ही खाने में भी पारंपरिक दक्षिण भारतीय व्यंजन छाये रहे। इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिनपिंग को पारंपरिक तमिल सामान भेंट किए। इसमें नाचियारकोइल अन्नम लैंप और तांजवुर पेंटिंग शामिल हैं। दो दिवसीय भारत दौरे के पहले दिन के रात्रिभोज में सांभर, और मसूर की दाल से बने लजीज दक्षिण भारतीय पकवान शामिल थे। मेन्यू में शामिल व्यंजन में सबके आकर्षण का केंद्र ‘अराचू विट्टा सांभर रहा। इसको और लजीज बनाने के लिए मसूर की पीसी दाल, कुछ खास मसाले और नारियल का इस्तेमाल किया गया।

इसके अलावा इमली और टमाटर सेे तैयार ‘तक्कली रसम मटर से तैयार ‘कदाली कुरुमा के साथ ही मिष्ठान के तौर पर कवनरासी हलवा, अदा प्रधामन व मुक्कानी आइसक्रीम भी शामिल थे। उनके लिए चुनिंदा मांसाहार व्यंजन का भी प्रबंध किया गया था। इसमें आंध्रप्रदेश का ममसम बिरयानी, मालाबार लोबस्टर, कोरी केम्पू, मट्टन उलरतियाडू, कारुवेपिल्लई मीन वारुवल, तनजावूर कोझी कड़ी, येराची घेट्टी कोझामबु आदि शामिल थे।

Loading...

Check Also

पाकिस्तान में भूकंप के झटके

इस्लामाबाद : पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत और उत्तरी इलाकों में सोमवार को भूकंप के ...