मां ने 2 बेटियों के साथ मांगी इच्छा मृत्यु:राष्ट्रपति को पत्र लिखा, कहा- तीनों के साथ आईपीएस के रिश्तेदार ने दुष्कर्म किया, थाने गए तो वहां से भगा दिया

सरदारशहर पुलिस थाने में इस्तगासा के जरिए 8 जनवरी 2021 को पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ था। - Dainik Bhaskar

सरदारशहर पुलिस थाने में इस्तगासा के जरिए 8 जनवरी 2021 को पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ था।

चूरू जिले के सरदारशहर में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां देगा गांव की एक एक महिला ने अपनी दो बेटियों ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु मांगी है। महिला ने राष्ट्रपति को लिखे पत्र में कहा कि तीनों (मां और दोनों बेटियों) के साथ गांव के दबंग बदमाशों ने दुष्कर्म किया। आरोपी आईपीएस अफसर का रिश्वतेदार है। इसलिए, उसके खिलाफ पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। न्याय नहीं मिलने से वह परेशान है।

बता दें कि सरदारशहर पुलिस थाने में इस्तगासा के जरिए 8 जनवरी 2021 को पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ था। सोमवार को मां दोनों बेटियों के साथ उपखंड अधिकारी के पास पहुंची। वहां इच्छा मृत्यु की मांग करते हुए राष्ट्रपति के नाम पत्र सौंपा।

राष्ट्रपति को भेजे पत्र में महिला ने लिखा- हर इंसान जीना चाहता है
महिला ने राष्ट्रपति को भेजे पत्र में लिखा- हर इंसान जीना चाहता है। चाहे वो अंधा हो या विकलांग ही क्यों न हो। लेकिन हमारे पूरे परिवार के साथ एक आईपीएस अफसर के सगे भांजों ने जबरदस्ती बलात्कार किया। जिसके कोर्ट में हमारे बयान भी हो चुके हैं। लेकिन उस आईपीएस के दबाव और दोनों पार्टियों के नेताओं के दबाव के चलते बाहुबली अपराधी आज भी मोटरसाइकिल पर हथियार लहराते हुए घूम रहे हैं। इस जलालत भरी जिंदगी व न्याय नहीं मिलने से हमारा पूरा परिवार आपसे इच्छामृत्यु की मांग करता है।

ये है पूरा मामला
पीड़ितों ने बताया कि 31 दिसंबर को करीब 11 बजे दबंग पीड़िता के घर आया था। उसने जान से मारने की धमकी देकर पीड़ित महिला की एक बेटी के साथ दुष्कर्म किया। वहीं, 10 दिन पहले उन्हीं के परिचित दूसरे व्यक्ति ने पीड़िता की मां के साथ दुष्कर्म किया। साथ ही दो लोगों ने उसकी दूसरी नाबालिग बेटी के साथ भी दुष्कर्म करने की कोशिश की। पीड़ित ने रिपोर्ट में बताया कि जब-जब मामला दर्ज करवाने सरदारशहर थाने गए तो डरा धमकाकर भगा दिया गया। पीड़ित परिवार की मांग है कि इस मामले की जांच किसी निष्पक्ष अधिकारी से करवाई जाए।

(रिपोर्ट- हनुमान वर्मा)

 

Check Also

विक्टोरिया जिला अस्पताल प्रदेश में अव्वल:कायाकल्प अवार्ड में पहला स्थान मिला, पुरस्कार में मिलेंगे 50 लाख, भोपाल दूसरे तो विदिशा तीसरे स्थान पर

  जबलपुर जिला अस्पताल विक्टोरिया को कायाकल्प अवार्ड का पहला पुरस्कार मिला। अक्टूबर 2020 में …