महाराष्ट्र में मिली दो सिर वाली अनोखी शार्क, जाल में फंसते ही हैरान रह गए लोग

शार्क (Shark) मछली का नाम सुनते ही उसके खूंखार जबड़े हमारे सामने आ जाते हैं। शार्क हमेशा से इंसानों का ध्यान आकर्षित करती रही है, कुछ अपने खूंखार होने की वजह से तो कुछ अपनी ताकत के कारण। अब तक आपने कई सारी शार्क देखी होंगी, लेकिन आज हम आपको दिखाने जा रहे है दो मुंह वाली शार्क (two-headed shark)। जी हां, महाराष्ट्र (Maharashtra) के पालघर के एक छोटे से सतपति गांव (Satpati village) में ये दुलर्भ शार्क का बच्चा मिला है। जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। आइए आपको भी दिखाते हैं इस अनोखी शार्क की तस्वीर।

नितिन पाटिल (Nitin Patil) नाम के मछुआरे ने दो सिर वाले दुर्लभ बेबी शार्क को पकड़ा है। वे बताते हैं कि रोज की तरह वह मछली पकड़ने समुद्र किनारे थे, जहां इस बेबी शार्क को देखकर उनके होश उड़ गए।

<p>दो सिर वाले सांप तो अक्सर देखने को मिल जाते है पर दो सिर वाली मछली को देखना एक आश्चर्य की बात है। इस अनोखी शार्क की तस्वीरें अब इंटरनेट तस्वीरें तेजी से वायरल हो रही है। हालांकि बाद में इसे वापस समुद्र में छोड़ दिया गया है।<br />
&nbsp;</p>

दो सिर वाले सांप तो अक्सर देखने को मिल जाते है पर दो सिर वाली मछली को देखना एक आश्चर्य की बात है। इस अनोखी शार्क की तस्वीरें अब इंटरनेट तस्वीरें तेजी से वायरल हो रही है। हालांकि बाद में इसे वापस समुद्र में छोड़ दिया गया है।

<p>इस बेबी शार्क की लंबाई सिर्फ 6 इंच बताई जा रही है और उसके दो सिर है।</p>

इस बेबी शार्क की लंबाई सिर्फ 6 इंच बताई जा रही है और उसके दो सिर है।

<p>सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट के विशेषज्ञों ने बताया कि दो सिर वाली बेबी शार्क मिलने का देश में यह पहला मामला है। इससे पहले आज तक भारत में इस तरह की शार्क नहीं देखी गई है।<br />
&nbsp;</p>

सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट के विशेषज्ञों ने बताया कि दो सिर वाली बेबी शार्क मिलने का देश में यह पहला मामला है। इससे पहले आज तक भारत में इस तरह की शार्क नहीं देखी गई है।

<p>कुछ साल पहले मैक्सिको के शोधकर्ताओं ने दो सिर वाली शार्क की खोज की थी। साल 2016 के बाद ये ऐसी दूसरी घटना है।<br />
&nbsp;</p>

कुछ साल पहले मैक्सिको के शोधकर्ताओं ने दो सिर वाली शार्क की खोज की थी। साल 2016 के बाद ये ऐसी दूसरी घटना है।

<p>डॉक्टर्स बताते हैं कि इस दुर्लभ घटना को डिसेफली (Dicephaly) कहा जाता है और कई अन्य जानवरों की प्रजातियों में इस विसंगति को देखा जा सकता है। यह भ्रूण की खराबी (Embryonic Malformation) के कारण हो सकता है।</p>

डॉक्टर्स बताते हैं कि इस दुर्लभ घटना को डिसेफली (Dicephaly) कहा जाता है और कई अन्य जानवरों की प्रजातियों में इस विसंगति को देखा जा सकता है। यह भ्रूण की खराबी (Embryonic Malformation) के कारण हो सकता है।

<p>बता दें कि शार्क मछली धरती पर सबसे ज्यादा जीने वाले जीवों में से एक है। ये लगभग 150 साल तक भी जिंदा रह सकती है। वहीं, ये काफी तेज भी होती हैं। दुनिया की सबसे तेज सेल्मन शार्क 55 मील प्रति घंटा की रफ्तार से तैरती है।</p>

बता दें कि शार्क मछली धरती पर सबसे ज्यादा जीने वाले जीवों में से एक है। ये लगभग 150 साल तक भी जिंदा रह सकती है। वहीं, ये काफी तेज भी होती हैं। दुनिया की सबसे तेज सेल्मन शार्क 55 मील प्रति घंटा की रफ्तार से तैरती है।

Check Also

New-Year-2021

नए साल में अपनी जिंदगी से निकाल फेंक दे ये 5 चीजे, हो जाएगी हर इच्छा पूरी…..

2020 की शुरुआत होने में कुछ ही समय शेष है, सभी लोगो को आने वाले …