महंगाई के बीच थोड़ी राहत:पश्चिम बंगाल और असम के बाद नागालैंड सरकार ने भी पेट्रोल-डीजल किया सस्ता, अब तक 5 राज्य कर चुके हैं कटौती

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के बीच नागालैंड सरकार ने लोगों का बड़ी राहत दी है। नागालैंड में पेट्रोल और अन्य मोटर स्प्रिट पर टैक्स 29.80% से घटाकर 25% प्रति लीटर किया गया है इससे राजधानी कोहिमा में पेट्रोल की रेट 3.07 रुपए कम हो गई है। वहीं डीजल पर टैक्स 17.50% से घटाकर 16.50 % प्रति लीटर किया गया है इससे इसका दाम प्रति लीटर 36 पैसे कम हुआ है। ऐसा करने वाला ये देश का 5वां राज्य है। इससे पहले राजस्थान, असम, मेघालय और पश्चिम बंगाल सरकार भी में पेट्रोल-डीजल के दाम कम कर चुकी हैं।

पश्चिम बंगाल सरकार ने की 1 रुपए की कटौती
पश्चिम बंगाल सरकार ने 22 फरवरी को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 1 रुपए की कटौती की थी। राज्य में इस साल विधानसभा चुनाव है ऐसे में ममता सरकार का यह फैसला काफी महत्वपूर्ण हो सकता है। कोलकाता में इस समय पेट्रोल 91.12 रु. और डीजल 84.20 रु. प्रति लीटर बिक रहा है।

असम में 5 रुपए की कटौती की गई
इससे पहले भाजपा शासित असम राज्य में भी 13 फरवरी को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 5 रुपए की कटौती की गई थी। असम की राजधानी दिसपुर में पेट्रोल 87.69 रु. और डीजल 81.97 रु. प्रति लीटर बिक रहा है।

राजस्थान सरकार ने वैट में की थी कमी
राजस्थान सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर लगने वाले वैट में 29 जनवरी को 2% की कटौती की थी। इससे तग पेट्रोल 1.35 रुपए और डीजल 1.32 रुपए प्रति लीटर सस्ता हो गया था। अभी राजस्थान सरकार पेट्रोल पर 36% और डीजल पर 26% वैट वसूल रही है। जयपुर में पेट्रोल 97.47 रु. और डीजल 89.82 रु. प्रति लीटर बिक रहा है।

मेघालय सरकार ने पेट्रोल 5.40 रुपए सस्ता किया
पेट्रोल की कीमत में 5.40 रुपए और डीजल में 5.10 रुपए प्रति लीटर की कमी करने का फैसला किया है। जयपुर में पेट्रोल 87.13 रु. और डीजल 80.53 रु. प्रति लीटर बिक रहा है।

54 दिनों में ही 25 बार बढ़े दाम

फरवरी में अब तक पेट्रोल-डीजल के रेट में 15 बार बढ़ोतरी हुई है। इस दौरान दिल्ली में पेट्रोल 4.38 रुपए और डीजल 4.59 रुपए महंगा हुआ है। इससे पहले जनवरी में रेट 10 बार बढ़े। इस दौरान पेट्रोल की कीमत में 2.59 रुपए और डीजल में 2.61 रुपए की बढ़ोतरी हुई थी। वहीं अगर 2021 की बात करें तो इस साल अब तक पेट्रोल 7.12 रुपए और डीजल 7.45 रुपए प्रति लीटर महंगा हुआ है।

 

Check Also

2023-24 तक एक अरब टन उत्पादन का लक्ष्य:कोल इंडिया ने 32 माइनिंग प्रोजेक्ट को मंजूरी दी, 47,300 करोड़ रुपए का निवेश कर सकती है

  32 प्रोजेक्ट में से 24 में मौजूदा खानों का विस्तार होना है, बाकी आठ …