ममता सरकार को राज्यपाल की चेतावनी : कठोर कार्रवाई के लिए विवश ना करें

कोलकाता, 14 जून (हि.स.)। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड ने कानून व्यवस्था को लेकर राज्य की ममता बनर्जी सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि उन्हें कठोर कार्रवाई करने को विवश ना किया जाये।   राजनीतिक हिंसा के चलते  लगातार बिगड़ती  कानून व्यवस्था को लेकर भारतीय जनता पार्टी के विधायकों ने सोमवार को  नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी के नेतृत्व में राजभवन  जाकर राज्यपाल जगदीप धनखड़ को ज्ञापन सौंपा। इसके बाद राज्यपाल ने कहा कि ममता सरकार लगातार हिंसा के बावजूद आंख बंद किए हुए हैं। सरकार हिंसा को लेकर कार्रवाई करे नहीं तो मैं संविधान में प्रदत्त अपने कठोर अधिकारों के इस्तेमाल के लिए विवश हो जाऊंगा।
धनखड़ ने हिंसा को लेकर राज्यपाल पर  हमला बोलते हुए कहा कि राज्य में  हिंसा का तांडव चल रहा है, लेकिन सरकार के कानों में जूं नहीं रेंग रही है। उन्होंने कहा कि नई सरकार को आए हुए एक माह से अधिक हो चुका  है, लेकिन किसी भी कैबिनेट की बैठक में हिंसा पर चर्चा नहीं हुई है। गौर हो कि विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा लगातार हिंसा का आरोप लगा रही है। दावा है कि चुनाव के बाद भाजपा के 40 से अधिक कार्यकर्ताओं की हत्या हो चुकी है।
भाजपा विधायकों का ज्ञापन स्वीकृत करने के बाद राज्यपाल ने सवाल उठाया  कि राज्य में  हिंसा का तांडव चल रहा है, लेकिन मुख्यमंत्री या मंत्री ने किसी भी पीड़ित के आंसू पोंछा है? उन्होंने कहा कि इतना न डरो की डर के कारण डर की चर्चा नहीं कर पाए। उन्होंने कहा कि एससी और एसटी पर हमले बोले गए हैं। उम्मीद है कि सरकार सकारात्मक रवैया अपनाएगी। सरकार संविधान के दायरे में काम करे। सिस्टम के बाहर जाकर काम करेंगे, तो मुझे कार्रवाई के लिये  विवश होना पडेगा।
हिन्दुस्थान समाचार

Check Also

जालंधर में अकाली-बसपा के प्रदर्शन में माहौल गर्माया:मांग पत्र देने पहुंचे तो जॉइंट कमिश्नर मोबाइल पर बात करते रहे, भड़के नेताओं ने सरकार को छोड़ उन्हीं के खिलाफ शुरू कर दी नारेबाजी

  मांग पत्र देने खड़े पहुंचे नेता व मोबाइल पर बात करते जॉइंट कमिश्नर। जालंधर …