मदरसा सुदृढ़ीकरण योजना:1127 मदरसों में बनेंगे दाे-दो क्लास रूम, दाे शौचालय और एक लाइब्रेरी, 86 करोड़ 71 लाख जारी

प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar

प्रतीकात्मक फोटो।

  • 40 मदरसाें पर बनेगा एक माॅडल मदरसा

बिहार मदरसा बाेर्ड द्वारा संचालित 1127 मदरसे आत्मनिर्भर हाेंगे। हर एक में दाे-दाे क्लास रूम बनेगा, दाे शाैचालय और दाे बाथरूम बनेंगे। एक लाइब्रेरी बनेगी। पानी पीने के लिए 300 फीट की बाेरिंग कराई जाएगी। दाेनाें कमराें और लाइब्रेरी में नए टेबल, बेंच व फर्नीचर आदि बनेंगे। बिहार सरकार ने इन 1127 मदरसाें की आधारभूत संरचना काे बेहतर करने के लिए वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए 86.71 कराेड़ जारी कर दी है। अब इन भवनाें काे बनाने के लिए टेंडर हाेगा। इन 1127 मदरसाें में करीब 800 मदरसे वस्तानिया स्तर के हैं जबकि शेष फाैकानिया के हैं।

इसी फंड से 28 माॅडल मदरसा बनेगा
इसी फंड से बिहार के हरेक 40 मदरसाें पर एक माॅडल मदरसा बनेगा यानी बिहार में करीब 28 माॅडल मदरसे भी बनाए जाएंगे। इन माॅडल मदरसाें में एक बड़ा हाॅल बनेगा जहां शिक्षकाें की सभी तरह की ट्रेनिंग कराई जाएगी। छात्राें के बीच प्रतियाेगिता का आयाेजन कराया जाएगा। शिक्षा और विज्ञान के साथ दीनी तालीम पर सेमिनार आदि हाेगा।

छात्राें काे मिल रहा है 10 हजार व 25 हजार
मदरसा के छात्र-छात्राओं के लिए फौकानिया परीक्षा में उत्तीर्ण उम्मीदवार के लिए 10 हजार और मौलवी में उत्तीर्ण छात्राओं को 25 हजार की राशि दी जा रही है। साथ ही उन्हें मिड डे मील, साइकिल, पोशाक दी जा रही हैं। फाैकानिया और माैलवी की परीक्षा हाे गई। रिजल्ट मार्च में होगा।

सरकार ने बेहतर काम किया है : चेयरमैन
बिहार मदरसा बाेर्ड के चेयरमैन अब्दुल कैय्यूम अंसारी ने बताया कि बिहार सरकार ने मुख्यमंत्री मदरसा सुदृढ़ीकरण योजना के अंतर्गत 86.71 कराेड़ जारी कर दिए हैं। सरकार ने यह बेहतर काम किया है। मदरसाें में रूम बन जाने से छात्राें की पढ़ाई बेहतर तरीके से हाेगी।

राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेजः पांच मंजिला हॉस्टल बनेगा, 80 कमरे होंगे, 40 करोड़ की आएगी लागत

राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज एवं अस्पताल में पढ़ रही छात्राओं के लिए 40 करोड़ से 80 कमरे का हॉस्टल बनाया जाएगा। इसके लिए राजेंद्र नगर स्थित रोड नंबर 10 में जमीन चिह्रित कर ली गई है। हॉस्टल में प्ले ग्राउंड, लाइब्रेरी, कैंटीन, पढ़ाई के लिए विभिन्न तरह के पेड़-पौधों की भी व्यवस्था रहेगी।

हॉस्टल निर्माण से पहले 120 छात्राओं के रहने के लिए किराए पर एक साथ 30 कमरे लेने की तैयारी है। हॉस्टल में सुरक्षा के साथ कैंटीन, लाइब्रेरी और मनोरंजन की व्यवस्था होगी। प्राचार्य वैद्य (प्रो.) दिनेश्वर प्रसाद ने बताया कि कॉलेज प्रशासन आसपास ही जगह तलाश रहा है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने बीते 18 फरवरी को मंजूरी दे दी है। इसका किराया अनुमंडल पदाधिकारी तय करेंगे। अभी कॉलेज हॉस्टल में 20 छात्राएं ही रह रहीं हैं।

 

Check Also

दौड़ते-दौड़ते सवा लाख के अमेरिकन बुलडॉग की मौत:पटना ​​​​​​वेटनरी कॉलेज में इलाज की पूरी व्यवस्था, वहीं हांफते-हांफते तोड़ दिया दम

  यही है अमेरिकन बुलडॉग जिसकी हुई मौत। डॉक्टरों की पूरी फौज मौजूद लेकिन हालात …