मथुरा में रालोद ने की किसान पंचायत, सपा ने दिया समर्थन, जयंत चौधरी बोले- एक साल में यूपी में तीन हजार से अधिक लड़कियों से रेप हुआ

 

यह फोटो मथुरा में सोमवार को आयोजित किसान पंचायत रैली की है। मंच पर एक साथ जयंत चौधरी व सपा के पूर्व सांसद धमेंद्र यादव नजर आए।

  • बीते दिनों मुजफ्फरनगर में जयंत चौधरी ने की थी महापंचायत, तब कांग्रेस-सपा के नेता मंच पर नजर आए थे
  • कभी मथुरा रालोद का गढ़ रही, 2014 के चुनाव में सीट गंवाई फिर कभी खड़े नहीं हो पाया दल

हाथरस में राष्टीय लोकदल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी और कार्यकर्ताओं पर हुए लाठीचार्ज के बाद रालोद अपनी खोई जमीन वापस पाने के लिए पंचायतों का सहारा ले रही है। बीते दिनों मुजफ्फरनगर में महापंचायत का आयोजन कर जयंत चौधरी ने अपनी ताकत का एहसास राज्य सरकार को कराया था। आज रालोद ने मथुरा में किसान पंचायत का आयोजन किया। मंच पर समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव भी नजर आए। इस मौके पर जयंत चौधरी ने कहा कि भाजपा ने बड़े-बड़े वादे कर बहू-बेटियों से वोट मांगे थे। लेकिन पिछले वर्ष के आंकड़े के अनुसार यूपी में 3065 लड़कियों के साथ रेप हुआ है। मुख्यमंत्री योगी को इसका जवाब देना पड़ेगा।

17 को बुलंदशहर में पंचायत का ऐलान किया

जयंत चौधरी ने कहा कि पंचायत ने फैसला लिया है कि हमें सड़क पर रहना है। साथ जिएंगे और साथ मरेंगे। हम 17 तारीख को बुलंदशहर में कार्यक्रम करेंगे और राजनीतिक तौर पर जवाब दिया जाएगा। हमारी कहीं मंशा ऐसी नहीं है कि उत्तर प्रदेश में हालात बिगड़े। हम उस लड़की (हाथरस की पीड़िता) को न्याय दिलाना चाहते थे और हम इसलिए गए थे रेप रुकने चाहिए। पिछले वर्ष केंद्रीय मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार 3065 लड़कियों के साथ उत्तर प्रदेश में रेप हुआ। योगी जी को जवाब देना पड़ेगा। आज हमारे उत्तर प्रदेश में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति खराब हो रही है। इसके विरोध में जनता की भावनाएं आज उजागर हुई हैं। जनता को संगठित करके किसान के मुद्दे को को जोड़कर और सुशासन के नारे को लेकर अब से मिलकर हम लगातार साथ काम करेंगे और उम्मीद है कि सरकार बदली जाएगी।

मथुरा कभी रालोद का गढ़ रहा

मथुरा कभी रालोद का गढ़ रहा है। 2009 में भाजपा गठबंधन के साथ रालोद ने यहां लोकसभा चुनाव लड़ा था। तब जयंत चौधरी लोकसभा पहुंचे थे। उस वक्त पांच विधानसभा सीटों में से दो सीट बलदेव और छाता में रालोद के विधायक थे। लेकिन, 2014 में रालोद ने भाजपा से अपनी राह अलग कर ली। तब मोदी की आंधी में रालोद ने यह सीट गंवा दी। फिर मथुरा में वह फिर कभी खड़ी नजर नहीं आई। लेकिन अब एक बार फिर रालोद यहां सोमवार को किसान पंचायत कर अपनी मौजूदगी का अहसास कराना चाहती है।

रालोद कार्यकर्ताओं ने गांव-गांव किसानों से संपर्क किया

इस पंचायत को लेकर रालोद कार्यकर्ताओं ने गांव-गांव संपर्क किया है। इस पंचायत में हजारों किसानों के शामिल होने का दावा किया जा रहा है। इस पंचायत में सपा के पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव, विधान परिषद सदस्य संजय लाठर, उदयवीर सिंह, पूर्व विधान परिषद सदस्य असीम यादव और जिला अध्यक्ष लोकमनीकांत जादौन शामिल होंगे। रालोद के साथ सपा के मंच साझा करने से राजनीतिक जानकार इसे 2022 से पहले 2020 में हो रहे उपचुनाव के नजरिए से देख रहे हैं। रालोद जहां सपा के साथ बुलंदशहर सीट को कब्जाना चाहती है, वहीं सपा टूंडला सीट पर जीतने की फिराक में हैं।

 

Check Also

लखनऊ:राज्यसभा चुनाव में 10वीं सीट के लिए जोर आजमाइश करेगी बसपा

लखनऊ :  उत्तर प्रदेश में अगले माह नौ नवंबर को राज्घ्यसभा की 10 सीटों पर …