मकर संक्रांति से शुरू होना था, लेकिन डिजायन फाइनल नहीं; अब फरवरी में शुरू होने की उम्मीद

अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर की नींव का काम टल गया है। मकर संक्रांति पर इसकी शुरुआत होनी थी, लेकिन डिजायन को लेकर अभी और मंथन होना है। मंदिर ट्रस्ट के काेषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरि ने संकेत दिए कि नींव के काम में कुछ देरी हो सकती है। अब इंजीनियरिंग टीम से फाइनल डिजायन मिलने पर ही काम शुरू होगा। माना जा रहा है कि अब फरवरी में ही काम शुरू हो पाएगा।

कल से धन जुटाने का अभियान शुरू होगा
मंदिर ट्रस्‍ट का सारा फोकस इस समय धन संग्रह अभियान पर है। पहले चरण में 15 जनवरी से 31 जनवरी तक उन लोगों से संपर्क अभियान चलाया जाएगा जो एक हजार रुपए से ज्‍यादा दान करने का संकल्‍प कर सकते हैं। श्री राम जन्‍म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्‍ट के सदस्‍य डॉ. अनिल मिश्र के मुताबिक 1 फरवरी से घर-घर संपर्क अभियान चलेगा, जिसमें 10 रुपए, 100 रुपए और एक हजार रुपए के कूपनों से मंदिर के लिए पैसे जुटाए जाएंगे।

करीब सवा लाख से ज्‍यादा टीमें पूरे देश में करीब 60 लाख लोगों से संपर्क करने के लिए निकलेंगी। इसके लिए जिला, शहर, ब्‍लॉक और गांव स्‍तर तक कमेटियां बनाई गई हैं। 7 से 10 कमेटियों को कलेक्‍शन प्रभारी से जोड़ा गया है, जिनको बैं‍क का बार कोड दिया गया है। इससे वे जमा राशि को अगले दिन मंदिर ट्रस्‍ट के बैंक ऑफ बडौदा, स्‍टेट बैंक और पंजाब नेशनल बैंक के खातों में जमा कर देंगे।

15 जनवरी को संतों से आशीर्वाद लेकर शुरू होगा अभियान
कलेक्शन टोलियां 15 जनवरी को अपने-अपने केंद्रों पर जमा होंगी। वहां से संतों का आशीर्वाद लेकर संपर्क अभियान पर निकलेंगी। राम मंदिर ट्रस्‍ट के महासचिव चंपत राय का कहना है कि यह धन जुटाने का कार्यक्रम नहीं, बल्कि राम मंदिर से युवा पीढ़ी को जोड़ने का कार्यक्रम है।

Check Also

करोड़पति हैं अखिलेश यादव की ‘चाची’, पति शिवपाल के पास है कुल इतनी संपत्ति!

यूपी की राजनीति में मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) ही नहीं बल्कि उनका पूरा …