भोलेनाथ को क्यों अर्पित की जाती है भस्म, जानिए वो बड़ा कारण

भगवान शिव अद्भुत व अविनाशी हैं। भगवान शिव जितने सरल हैं, उतने ही रहस्यमयी भी हैं। शास्त्रों में एक ओर जहां सभी देवी-देवताओं को सुंदर वस्त्र और आभूषणों से सुसज्जित बताया गया है, वहीं दूसरी ओर भगवान शिव का रूप चित्र-विचित्र बताया गया है। शिवजी सदैव मृगछाला (हिरण की खाल) धारण किए रहते हैं और शरीर पर भस्म लगाए रहते हैं। आपको बता दें कि बारह ज्योर्तिलिंग में से एक उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर में है, जहां प्रतिदिन विशेष रूप से भस्म आरती की जाती है। भस्म आरती की यह परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है, लेकिन क्या आप जानते हैं महाकाल को भस्म अर्पित क्यों की जाती है? तो आइए आज शिवपुराण के अनुसार जानते हैं शिवलिंग पर भस्म क्यों अर्पित की जाती है…

भस्म सृष्टि का सार

ऐसा माना जाता है कि शिवजी का प्रमुख वस्त्र ही भस्म है, क्योंकि उनका पूरा शरीर भस्म से ढंका रहता है। शिवपुराण के अनुसार भस्म सृष्टि का सार है, एक दिन संपूर्ण सृष्टि इसी राख के रूप में परिवर्तित हो जानी है। भस्म की यह विशेषता होती है कि यह शरीर के रोम छिद्रों को बंद कर देती है। इसे शरीर पर लगाने से गर्मी में गर्मी और सर्दी में सर्दी नहीं लगती। भस्म, त्वचा संबंधी रोगों में भी दवा का काम भी करती है। शिवजी का निवास कैलाश पर्वत पर बताया गया है, जहां का वातावरण एकदम प्रतिकूल है। इस प्रतिकूल वातावरण को अनुकूल बनाने में भस्म महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। भस्म धारण करने वाले शिव संदेश देते हैं कि परिस्थितियों के अनुसार स्वयं को ढाल लेना चाहिए।

क्यों लगाते हैं भोलेनाथ शरीर पर भस्म? 
भगवान शिव ने अपने तन पर जो भस्म रमाई है वह उनकी पत्नी सती की चिता की भस्म थी। जब सती अपने पिता द्वारा भगवान शिव के अपमान से आहत हो वहां हो रहे यज्ञ के हवनकुंड में कूद गई थीं। भगवान शिव को जब इसका पता चला तो वे बहुत बेचैन हो गए। जलते कुंड से सती के शरीर को निकालकर प्रलाप करते हुए ब्रह्माण्ड में घूमते रहे। उनके क्रोध व बेचैनी से सृष्टि खतरे में पड़ गई। जहां जहां सती के अंग गिरे वहां शक्तिपीठ की स्थापना हो गई। फिर भी शिव का संताप जारी रहा। पुराणों में भस्म का विवरण भी मिलता है, जिसके अनुसार श्री हरि ने सती के शरीर को भस्म में परिवर्तित कर दिया और शिव ने विरह की अग्नि में भस्म को ही उनकी अंतिम निशानी के तौर पर तन पर लगा लिया।

महाकाल की भस्मार्ती
उज्जैन स्थित महाकालेश्वर की भस्मार्ती विश्व भर में प्रसिद्ध है। ऐसी मान्यता है कि वर्षों पहले श्मशान भस्म से भूतभावन भगवान महाकाल की भस्म आरती होती आ रही है।

तीन प्रकार की भस्म
श्रौत, स्मार्त और लौकिक ऐसे तीन प्रकार की भस्म कही जाती है। श्रुति की विधि से यज्ञ किया हो वह भस्म श्रौत है, स्मृति की विधि से यज्ञ किया हो वह स्मार्त भस्म है तथा कण्डे को जलाकर भस्म तैयार की हो वह लौकिक भस्म है। शिव के शरीर पर भस्म लपेटने का दार्शनिक अर्थ यही है कि यह शरीर जिस पर हम घमंड करते हैं, जिसकी सुविधा और रक्षा के लिए ना जाने क्या-क्या करते हैं एक दिन इसी इस भस्म के समान हो जाएगा। शरीर क्षणभंगुर है और आत्मा अनंत।

सन्यासी तथा नागा साधु लगाते हैं भस्म
कई सन्यासी तथा नागा साधु पूरे शरीर पर भस्म लगाते हैं। यह भस्म उनके शरीर की कीटाणुओं से तो रक्षा करता ही है तथा सब रोम कूपों को ढंककर ठंड और गर्मी से भी राहत दिलाती है। रोम कूपों के ढंक जाने से शरीर की गर्मी बाहर नहीं निकल पाती इससे शीत का अहसास नहीं होता और गर्मी में शरीर की नमी बाहर नहीं होती। इससे गर्मी से रक्षा होती है। मच्छर, खटमल आदि जीव भी भस्म रमे शरीर से दूर रहते हैं।

Check Also

आर्थिक राशिफल 21 अक्टूबर: आज इन राशियों को मिलेगा भाग्‍य का साथ

मेष:  मेष राशि के जातक पूरे जोश लगन के साथ अपने काम में लगे रहेंगे। …